scorecardresearch
 

यूपी-छत्तीसगढ़ सहित 4 राज्यों में उपचुनाव के लिए वोटिंग संपन्न

उत्तर प्रदेश की हमीरपुर विधानसभा सीट, त्रिपुरा की बधारघाट विधानसभा सीट और छत्तीसगढ़ की नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा सीट पर उपचुनाव के लिए मतदान कराए गए. इसके अलावा केरल की पाला विधानसभा सीट पर वोटिंग कराई गई.

बीजेपी विधायक की सजा के बाद हमीरपुर में कराया गया उपचुनाव (फाइल फोटो) बीजेपी विधायक की सजा के बाद हमीरपुर में कराया गया उपचुनाव (फाइल फोटो)

  • हमीरपुर सीट पर उपचुनाव के लिए मतदान संपन्न
  • BJP विधायक की सजा के बाद कराई गई वोटिंग
  • देश के चार राज्यों की 4 सीट पर हुए उपचुनाव

उत्तर प्रदेश की हमीरपुर विधानसभा सीट, त्रिपुरा की बधारघाट विधानसभा सीट छत्तीसगढ़ की नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा सीट के लिए वोट डाले गए. इसके अलावा  केरल की पाला विधानसभा सीट पर वोटिंग कराई गई. चारों राज्यों की चार सीटों पर रहे उपचुनाव में बीजेपी सहित तमाम विपक्षी दलों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है.

बता दें कि हमीरपुर सीट से बीजेपी के विधायक अशोक सिंह चंदेल को उम्रकैद की सजा मिलने से यह खाली रिक्त हुई थी. त्रिपुरा की बाधारघाट सीट बीजेपी विधायक दिलीप सरकार के निधन के कारण रिक्त है. वहीं, दंतेवाड़ा सीट से बीजेपी के विधायक रहे भीमा मंडावी की नक्सली हमले में हुई मौत के कारण यह सीट खाली हुई है.

हमीरपुर सीट से बीजेपी युवराज सिंह, बसपा से नौशाद अली, सपा से डॉ. मनोज प्रजापति, कांग्रेस से हरदीपक निषाद और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया से जमाल आलम मंसूरी किस्मत आजमा रहे हैं. इनके अलावा चार निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में हैं. ऐसे ही त्रिपुरा की बधारघाट विधानसभा सीट पर बीजेपी से मिमी मजूमदार, सीपीआईएम से बुल्टी बिस्वास और कांग्रेस से रतन दास मैदान में हैं.

हमीरपुर विधानसभा उप निर्वाचन में कुल 476 बूथ और 256 मतदान केंद्र बनाए गए हैं.  इनमें 37 क्रिटिकल बूथ चिन्हित किए गए हैं.  52 स्थानों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई है. सभी बूथों को  04 जोन, 36 सेक्टर और 10 अतिरिक्त स्टैटिक/सेक्टर मजिस्ट्रेट  में बांटा गया है. निर्वाचन में कुल मतदाताओं की संख्या 4,01497 है.

पहली बार क्यूआर कोड का इस्तेमाल

बता दें कि हमीरपुर उपचुनाव में पहली बार मत पर्ची में क्यूआर कोड का इस्तेमाल किया जा रहा है. क्यूआर कोड को प्रयोग के तौर पर चुनाव आयोग ने पहली बार शुरू किया है. 5 बूथों पर तमाम मतदाताओं के मत पर्ची पर यह क्यूआर कोड है जिसे बूथ ऐप के जरिए स्कैन किया जा रहा है.

यह बूथ ऐप बीएलओ और पीठासीन अधिकारी के पास होता है. एक बार क्यूआर कोड स्कैन होने के बाद मतदाता का पूरा डिटेल उस ऐप में आ जाता है. इस डीटेल्स स्कैन को ईवीएम के पास बैठे पीठासीन अधिकारी को भेजा जाता है और उसके बाद वोटिंग होती है.

इसका सबसे बड़ा फायदा यह है की फर्जी वोटिंग नहीं की जा सकती है, क्योंकि एक बार मतदाता का पूरा डिटेल जैसे ही क्यूआर कोड के जरिए ऐप में आता है यह तुरंत रजिस्टर हो जाता है. उसके बाद दूसरी जगह पर अगर यह मतदाता एनरोल्ड है तो वह भी पता चल जाएगा.

बता दें कि हमीरपुर के कई इलाके बाढ़ की चपेट में हैं. यमुना और बेतवा नदी में आई बाढ़ के मद्देनजर मतदान प्रभावित न हो और लोग अधिक से अधिक मतदान कर सकें इसके लिए जिला प्रशासन ने प्रत्येक बूथ पर नाव, ट्रैक्टर तथा मोटरबोट, स्टिमर की व्यवस्था की है. इन साधनों के माध्यम से बाढ़ से प्रभावित होने वाले मतदाताओं को बूथों तक पहुंचाया जाएगा. बाढ़ में डूबे 8 बूथों को दूसरी जगह शिफ्ट किया गया है. शिफ्ट किए गए बूथों के मतदाता पहले जैसे बूथ की तरह रहेंगे इसमे कोई बदलाव नहीं किया गया है.

सभी मतदान केंद्रों पर सुरक्षा के दृष्टिकोण से पैरामिलिट्री फोर्स की व्यवस्था की गई है. बीजेपी इस सीट को जीतने के लिए पूरी कोशिश कर रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें