scorecardresearch
 

S-400 पर अमेरिका को भारत की खरी-खरी, वही करेंगे जो राष्ट्रहित में होगा

भारत का ये बयान रूस से एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम S-400 के खरीद के संदर्भ में है. भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने माइक पोम्पियो के साथ लंबी द्विपक्षीय वार्ता के दौरान भारत के रूख से अमेरिका को साफ-साफ अवगत कर दिया.

नई दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान माइक पोम्पियो और एस जयशंकर (फोटो-एएनआई) नई दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान माइक पोम्पियो और एस जयशंकर (फोटो-एएनआई)

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को भारत ने दो टूक बता दिया है राष्ट्रीय सुरक्षा के मामले में इंडिया वही करेगा जो उसके राष्ट्रहित में होगा. भारत का ये बयान रूस से एंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम S-400 के खरीद के संदर्भ में है. भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने माइक पोम्पियो के साथ लंबी द्विपक्षीय वार्ता के दौरान भारत के रूख से अमेरिका को साफ-साफ अवगत कर दिया.

नई दिल्ली में एक संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान माइक पोम्पियो ने कहा कि भारत अमेरिका का अहम साझीदार है और दोनों देशों के बीच के रिश्ते नई ऊंचाई पर हैं. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान Countering America's Adversaries Through Sanctions Act (CAATSA) प्रतिबंधों पर जवाब देते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि भारत का कई देशों के साथ संबंध है, और इनका एक इतिहास है, हम वही करेंगे जो हमारे देश के हित में होगा.

एस जयशंकर ने कहा, "हमारे कई रिश्ते हैं...उनका एक इतिहास है...हम वही करेंगे जो हमारे देश के हित में है और रणनीति साझीदार की यही खासियत है कि हर देश अपने साझीदार देश के राष्ट्रीय हितों की चिंता करता है."

आतंकवाद पर एस जयशंकर ने कहा कि भारत ने आतंक के खिलाफ जंग में राष्ट्रपति ट्रंप के समर्थन की सराहना की है.

ईरान के मुद्दे पर पोम्पियो ने कहा कि ईरान दुनिया में आतंक का सबसे बड़ा स्पॉन्सर है, भारत के भी दुनिया भर में आतंक से प्रभावित हुए हैं, हमने इस खतरे पर चर्चा की है और हमने सामूहिक रूप से तय किया है कि हम एनर्जी को उचित कीमतों पर रख सकें और इस खतरे का मुकाबला कर सकें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें