scorecardresearch
 

भारी हंगामे के चलते संसद की कार्यवाही ठप

गुरुवार को विपक्ष के जोरदार हंगामे के साथ संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत हुई. करीब 12 बजे ही राज्यसभा की कार्यवाही दिनभर तक के लिए स्थगित कर दी गई.

संसद संसद

गुरुवार को विपक्ष के जोरदार हंगामे के साथ संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत हुई. करीब 12 बजे ही राज्यसभा की कार्यवाही दिनभर तक के लिए स्थगित कर दी गई.

वहीं लोकसभा की कार्यवाही दो बार, पहली बार 12:30 बजे तक और उसके बाद दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई. बीएसपी ने एससी-एसटी आरक्षण विधेयक को लेकर हंगामा शुरू किया तो टीएमसी और बीजेपी ने एफडीआई को लेकर.

टीएमसी का अविश्वास प्रस्ताव खारिज
इस बीच लोकसभा में दूसरी बार कार्यवाही शुरू होने पर तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी को करारा झटका लगा. उनकी पार्टी के द्वारा पेश किया गया अविश्वास प्रस्ताव जरूरी समर्थन ना मिल पाने की वजह से लोकसभा में गिर गया. उसे सिर्फ बीजेडी से ही समर्थन मिल पाया.

संसद की कार्यवाही शुरू होते ही तृणमूल कांग्रेस नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया. साथ ही लोकसभा में प्रतिपक्ष की नेता और वरिष्ठ बीजेपी नेता सुषमा स्वराज ने लोकसभा में स्पीकर को एफडीआई पर चर्चा और वोटिंग के लिए नोटिस दिया.

गुरुवार को संसद का सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एफडीआई के मुद्दे पर सभी पार्टियों से सरकार का साथ देने की अपील की. उन्होंने कहा कि देश को निवेश की जरूरत है. सरकार हरेक मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है.' इसके जवाब में बीजेपी नेता बलबीर पुंज ने कहा कि पीएम के इस बयान का कोई मतलब नहीं है.
इस बीच सूचना प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने कहा है कि हमारी नीति साफ है कि संसद चलनी चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें