scorecardresearch
 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- गैर-इरादतन धर्म का अपमान जुर्म नहीं

क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने ये टिप्पणी की. 2013 में एक बिजनेस मैगजीन के कवर पेज पर उन्हें भगवान विष्णु के अवतार के तौर पर दिखाया गया था. तस्वीर में धोनी जूते समेत कई चीजें पकड़े हुए थे. इसके बाद उनके खिलाफ केस दर्ज हुआ था.

अभिव्यक्ति की आजादी पर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला अभिव्यक्ति की आजादी पर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला

ऐसे वक्त में जब कुछ लोगों को लग रहा है कि देश में धार्मिक असहिष्णुता बढ़ रही है, सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कानूनी हद साफ की है. सर्वोच्च अदालत ने कहा है कि अनजाने में या गलती से किसी धर्म का अपमान करने वाले शख्स पर मुकदमा नहीं चलाया जा सकता. अदालत की राय में अगर ऐसा होता है तो ये कानून का बेजा इस्तेमाल होगा.

क्या था मामला?
क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने ये टिप्पणी की. 2013 में एक बिजनेस मैगजीन के कवर पेज पर उन्हें भगवान विष्णु के अवतार के तौर पर दिखाया गया था. तस्वीर में धोनी जूते समेत कई चीजें पकड़े हुए थे. इसके बाद उनके खिलाफ केस दर्ज हुआ था. याचिका में धोनी ने अपने खिलाफ आपराधिक मुकदमे को चुनौती दी थी.

धारा 295 का गलत इस्तेमाल
सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने अपने फैसले में कानून की धारा 295A के गलत इस्तेमाल पर भी चिंता जाहिर की है. इस धारा के तहत धार्मिक भावनाएं भड़काने के दोषियों को 3 साल तक सजा हो सकती है. अदालत का कहना था कि अगर कोई अनचाहे तरीके से, या लापरवाही में या बिना किसी खराब मंशा के धर्म का अपमान करता है तो ये काम धारा 295A के तहत नहीं गिना जा सकता.

60 साल पहले भी आया था ऐसा फैसला
सुप्रीम कोर्ट ने साल 1957 में भी धारा 295A को लेकर स्थिति साफ की थी. अदालत के फैसले में कहा गया था कि गैर-इरादतन धर्म का अपमान करने के मामले धारा-295A के तहत नहीं आते. लेकिन पिछले कुछ सालों में ना सिर्फ इस धारा का गलत इस्तेमाल बढ़ा है बल्कि देश में असहिष्णुता को लेकर बहस भी गर्म हुई है. लिहाजा सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले को अहम माना जा रहा है.

फंस चुकी हैं कई हस्तियां
आम लोगों के साथ कई नामचीन हस्तियों को भी सेक्शन 295A के गलत इस्तेमाल का शिकार होना पड़ा है. साल 2016 में हास्य कलाकार किकू शारदा को डेरा सच्चा सौदा के गुरमीत राम रहीम के अपमान के आरोप में जेल जाना पड़ा था. सितंबर 2014 में सलमन खान पर मुस्लिमों की धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंचाने का आरोप लगा था. दरअसल उनके एनजीओ 'Being Human' के फैशन शो में एक मॉडल की टी-शर्ट पर लिखे अरबी शब्द को लेकर कुछ लोगों ने ऐतराज उठाया था. इसी तरह फिल्म 'पीके' को लेकर आमिर खान के खिलाफ भी शिकायत दर्ज करवाई गई थी. एक्टर अक्षय कुमार और निर्देशक उमेश शुक्ला पर फिल्म 'ओ माई गॉड' में भगवान कृष्ण के चित्रण को लेकर अजमेर में एफआईआर दर्ज हुई थी. साल 2012 में शाहरुख खान और गौरी खान पर 'राधा ऑन द डांस फ्लोर' गाने को लेकर केस दर्ज हुआ था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें