scorecardresearch
 

मसूद अजहर के 'वैश्विक आतंकवादी' घोषित होने से क्या होगा असर, टूटेगी जैश की कमर?

भारत ने मसूद अजहर पर प्रतिबंध के खिलाफ करीब एक दशक पहले ही संयुक्त राष्ट्र में प्रस्ताव पेश किया था और 4 मौकों पर चीन के कारण अपने मकसद में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उसे बड़ी कामयाबी मिल गई. जानते हैं कि इस प्रतिबंध के क्या मायने हैं और इसका भविष्य में क्या असर पड़ेगा.

वैश्विक आतंकी घोषित होने के बाद मसूद अजहर पर लगेगा लगाम (फाइल/REUTERS) वैश्विक आतंकी घोषित होने के बाद मसूद अजहर पर लगेगा लगाम (फाइल/REUTERS)

भारत में लोकसभा चुनाव के बीच संयुक्त राष्ट्र ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को 'वैश्विक आतंकवादी' घोषित कर दिया. वैश्विक स्तर पर भारत के लिए यह एक बड़ी कूटनीतिक जीत मानी जा रही है. 'वैश्विक आतंकवादी' घोषित किए जाने के बाद मसूद अजहर और उसको पनाह देने वाले पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है. संयुक्त राष्ट्र में इस प्रतिबंध के बाद मसूद अजहर की संपत्ति जब्त हो जाएगी और दूसरे देशों से हथियार भी नहीं ले सकेगा. इस फैसले के बाद जैश-ए-मोहम्मद की कमर टूट सकती है क्योंकि उसे बाहर से फंड मिलना बंद हो जाएगा.

भारत ने मसूद अजहर पर प्रतिबंध के खिलाफ करीब एक दशक पहले ही संयुक्त राष्ट्र में प्रस्ताव पेश किया था और 4 मौकों पर चीन के कारण अपने मकसद में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उसे बड़ी कामयाबी मिल गई. जानते हैं कि इस प्रतिबंध के क्या मायने हैं और इसका भविष्य में क्या असर पड़ेगा.

क्या होगा असर?

वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने के बाद मसूद अजहर अब संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों की यात्रा नहीं कर सकेगा.

साथ ही संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों में मसूद अजहर की चल-अचल संपत्ति जब्त हो जाएगी. वहीं उसकी संपत्तियों की जांच भी कराई जा सकती है.

इसके अलावा मसूद अजहर को दुनिया के अन्य देशों से फंड मिलना बंद हो जाएगा, साथ ही वह इन देशों से हथियार भी नहीं खरीद सकेगा. इससे उसके टेरर फंडिंग अभियान पर रोक लगेगा. भारत हमेशा से टेरर फंडिंग का आरोप लगाता रहा है. भारत ने अपने डोजियर में इस ओर संकेत किया था कि यह आतंकी संगठन अपने अन्य संबंधित संगठनों की मदद से कार्यक्रमों का आयोजन कर पैसा जुटाता है. प्रतिबंध लगने के बाद अब इस तरह से फंड जुटाने की कोशिश पर रोक लग जाएगी.

पुलवामा का जिक्र नहीं

यूएनएससी की प्रतिबंध समिति के तहत पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को चीन द्वारा अपनी रोक हटा लिए जाने के बाद वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया गया. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने ट्वीट किया, 'बड़े, छोटे, सभी एकजुट हुए. मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध सूची में आतंकवादी घोषित किया गया है. समर्थन करने के लिए सभी का आभार.'

यूएनएससी ने एक मई 2019 को अजहर को अलकायदा से संबद्ध के तौर पर सूचीबद्ध किया. जैश ए मोहम्मद का सहयोग करने का संकेत देने वाली गतिविधियों के लिए धन जुटाने, योजना बनाने, उसे प्रोत्साहित करने, तैयारी करने या हथियारों की आपूर्ति करने या आतंकी हरकतों के लिए भर्तियां करने को लेकर उसे इस सूची में डाला गया है. पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकवादी हमले का कोई जिक्र नहीं किया गया, जबकि इस हमले की जिम्मेदारी जैश ने ली थी. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×