scorecardresearch
 

पूर्व NSA शिवशंकर मेनन बोले- पाकिस्तान से परमाणु हमले का खतरा बढ़ा

इंडिया टुडे टेलीविजन के 'टू द प्वाइंट' कार्यक्रम में दिए इंटरव्यू में मेनन ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा विकसित किए गए छोटे परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की जिम्मेदारी युद्धक्षेत्र में निचले क्रम के अधिकारियों को सौंपी जाएगी, जो सेना में युवा अधिकारी होंगे और धार्मिक स्तर पर बेहद प्रेरित तथा कम से कम पेशेवर होंगे.

पूर्व विदेश सचिव शिवशंकर मेनन पूर्व विदेश सचिव शिवशंकर मेनन

पूर्व विदेश सचिव शिवशंकर मेनन ने कहा है कि पाकिस्तान के परमाणु बम का इस्तेमाल करने का खतरा बेहद बढ़ गया है. इंडिया टुडे टेलीविजन के 'टू द प्वाइंट' कार्यक्रम में दिए इंटरव्यू में मेनन ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा विकसित किए गए छोटे परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की जिम्मेदारी युद्धक्षेत्र में निचले क्रम के अधिकारियों को सौंपी जाएगी, जो सेना में युवा अधिकारी होंगे और धार्मिक स्तर पर बेहद प्रेरित तथा कम से कम पेशेवर होंगे.

मेनन पहले परमाणु हमला करने के खिलाफ
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रह चुके मेनन ने कहा, इसका मतलब यह है कि भारत के खिलाफ ऐसे छोटे परमाणु हथियारों के इस्तेमाल के खतरे बढ़ गए हैं. उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में परमाणु युद्ध की आशंका बढ़ जाती है, क्योंकि भारत इसका जवाब व्यापक परमाणु हथियारों से देगा. उन्होंने कहा कि परमाणु हथियारों के पहले इस्तेमाल की नीति, जिसका जिक्र रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने किया है, वह भारत के हित में नहीं होगा.

मेनन ने कहा कि भारत के परमाणु हथियार पाकिस्तानी आतंकवादियों को हतोत्साहित करने के लिए नहीं हैं. उन्होंने कहा, 'पाकिस्तान के किसी आतंकवादी हमले का जवाब परमाणु हथियार से देने की धमकी किसी मच्छर को मारने के लिए बंदूक का इस्तेमाल करने जैसी होगी और यह भारत के लोगों की समझ से परे होगी.' पूर्व विदेश सचिव ने कहा कि भारत की पाकिस्तान नीति को हमेशा वास्तविकता के संदर्भ में नहीं देखा गया.

26/11 के वक्त राष्ट्रपति को दी थी ये सलाह
26/11 मुंबई हमले पर बातचीत करते हुए मेनन ने कहा कि उन्होंने उस वक्त लश्कर-ए-तैयबा या पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादी शिविरों या आईएसआई के खिलाफ मुंहतोड़ जवाब देने के लिए कहा था. विदेश सचिव के रूप में उन्होंने तत्कालीन विदेश मंत्री प्रणब मुखर्जी तथा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सलाह दी थी कि भारत को मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए और यह दिखना चाहिए. उन्होंने कहा कि मुखर्जी ने मेरी बातों से सहमति जताई थी. लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर मनमोहन सिंह की प्रतिक्रिया के बारे में खुलासा नहीं किया, हालांकि अंत में भारत ने इसका सैन्य जवाब नहीं दिया.

'बहुत जरूरी थी सर्जिकल स्ट्राइक'
जम्मू कश्मीर के उरी में आतंकवादी हमले के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 28 सितंबर को हुए सर्जिकल स्ट्राइक को मेनन ने बहुत जरूरी बताया. उन्होंने कहा, 'भारत को निर्णायक सैन्य समाधान के बिना लंबे वक्त तक सीमा पार से आतंकवाद को रोकने के लिए तैयार रहना चाहिए.' मेनन का मानना है कि वास्तव में पाकिस्तान आतंकवाद पर नियंत्रण नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि आतंकवाद की जड़ें पाकिस्तान के समाज व राजनीति में हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें