scorecardresearch
 

खानाखराबः राहुल गांधी क्यों अड़े हैं हम सबका पेटिक्योर करने पर

मध्य प्रदेश सुर्ख़ियों में  है. चुनाव जो हैं. ज्योतिरादित्य शिवराज को चुनौती दे रहे हैं. शिवराज को तीसरी बार जीतना है. राहुल गांधी का सेमीफाइनल ये, क्योंकि फाइनल में मोदी पहले पहुंच चुके हैं. पर आज राजनीति ना कर मध्य प्रदेश की बात करें, जिस धरती से मेरे पुरखे निकले. मैं भी कुछ महीने भोपाल रह कर आया काम के सिलसिले में. फिर मैं निकल आया.

एमपी अजब है, सबसे गजब है एमपी अजब है, सबसे गजब है

मध्य प्रदेश सुर्ख़ियों में है. चुनाव जो हैं. ज्योतिरादित्य शिवराज को चुनौती दे रहे हैं. शिवराज को तीसरी बार जीतना है. राहुल गांधी का सेमीफाइनल ये, क्योंकि फाइनल में मोदी पहले पहुंच चुके हैं. पर आज राजनीति ना कर मध्य प्रदेश की बात करें, जिस धरती से मेरे पुरखे निकले. मैं भी कुछ महीने भोपाल रह कर आया काम के सिलसिले में. फिर मैं निकल आया.

एक बार कवि सम्मलेन के मंच पर एक कवि का कुछ यूं आह्वान हुआ कि महाशय मध्य प्रदेश से आए हैं, तो वहां बैठे हास्य कवि से रहा ना गया. वह बोल उठे: यही क्यों, हम सभी मध्य प्रदेश से ही आए हैं. मनुष्य मध्य प्रदेश से ही आता है. ठहाकों के बीच लोग भूल  गए कि बात सच भी हो सकती है. मध्य प्रदेश में गोंड बसते हैं, जो देश के प्राचीनतम मनुष्यों में से हैं. भीमबेटका के भित्ति चित्र और समुद्र की लहरों के निशान बताते हैं कि मध्य प्रदेश इस ज़मीन पर मानव सभ्यता के केंद्र में था.

मगर हम तब के मध्य प्रदेश के बारे में बात नहीं कर रहे, हम अब के मध्य प्रदेश के बारे में बात करें जिसे हिंदुस्तान का दिल कहा जाता है. पहले तो वह विज्ञापन ही गलत है. अगर भारत एक धड़कता शरीर है तो मध्य प्रदेश हृदय नहीं, उदर है. दिल इधर है, वह उधर है. दिल ना होकर पेट है. पेट हमारे शरीर का वह अंग है जिसपर हम ध्यान नहीं देते हैं. जीते हैं जिसके लिए और जो हमें जिंदा रखता है, पर ढंका रहता है और छुपा रहता है. कभी कभार दुखा और पुदीन हरा से दर्द नहीं भरा तो गोली खा ली. पेट कभी नोटिस ही नहीं करते हम, अगर वह फूले ना. कोई पेट से हो तो क्रेडिट पांव को जाता है. जब पेट और पीठ मिलकर एक होते हैं तब भी लोग नेक होते हैं और जो नहीं होते वह पेट को पापी बताकर आपके सवालों पर सवाल खड़े करते हैं.

मध्य में होना कैसा है, ये मंझलों से पूछ लो या मध्यवर्ग से. जो बड़ा है उसे किसी नीति, नियम से फर्क नहीं पड़ता. जो छोटा है उसे मनपसंद नीतियां मिलती हैं. ये जो मध्यवर्ग है उसे लगता है देश वह चला रहा है पर इस चलने में मज़ा सा कुछ ना आ रहा है. उसे शिकायत रहती है, बुड़बुड़ाता है जैसे पेट गुड़गुड़ाता है. चर्बी चढ़ गई तो लोग मज़ाक उड़ाते हैं, थोड़ी कसरत करते हैं तो आत्मविश्वास बढ़ जाता है. नितिन गडकरी ने अपने मध्य प्रदेश में सर्जरी करा ली और पतले न हुए, जैसे छत्तीसगढ़ के निकल जाने पर भी मध्य प्रदेश उन्नीस नहीं हुआ. अपने हिंदुस्तान में पेट की मुश्किलें ख़त्म नहीं होतीं. गैस सबसे बड़ी त्रासदी होती है. गैस ने घर कर लिया तो इंसान की हवा निकल जाती है. तीन दशक हो गए, कार्बाइड ने रातों की नींद उड़ा राखी है.

हक़ीक़त है कि पेट का आदमी को तभी ख्याल आता है जब पेट गड़बड़ाता है. स्थिति सामान्य बनी रहे तो आदमी को एहसास भी नहीं होता कि हम कुछ महत्त्वपूर्ण लिए घूम रहे हैं. पेट अगर क्योर और प्योर नहीं हो, तो लाख फेशियल करा लो आदमी या काला पड़े या पीला. पर पेडिक्योर, मेनिक्योर सुना होगा, पेटिक्योर कोई नहीं करवाता. आदमी तभी घबराता है जब पेट की आड़ में पैर नज़र नहीं आता है. पर्दों पर सिक्स पैक देखता आदमी उन परतों को कोसता है जिसने सिक्स पैक को पर्दों में छुपाया है.

जिनके सिक्स पैक होते हैं पेट उनका भी होता है, पर नज़र नहीं आता. छप्पन इंच के सीने वाले नेता अपनी 2002 के कुरते को जब सीते हैं, तब पेट का ज़िक्र नहीं करते. उनके यहां लड़कियां भर पेट खा नहीं पाती तो उसे डाईट पर मढ़ते हैं. हमारे सामजिक रोगों की जड़ में है मनुवादी वर्ण व्यवस्था. उसमें उदार वैश्य है. विडम्बना है कि पेट प्रतिनिधित्व करता है उनका जो पेट भरते हैं, जिससे शरीर चलता है. कभी बीमारू मध्य प्रदेश पेट भरने में कसर नहीं छोड़ रहा. शरबती गेंहू की मिठास देश के हर किचन में है. पर आटा किसने रुपये के दो किलो बांटा, वोट तो इस पर बंटेगा. वहां भी.

शिवराज ने पेट का ख़याल रखा है. पर ग्वालियर के सिंधिया सेंध लगाने निकले हैं शिव के किले में. पेट के भीतर, अल्सर और पथरी निकाल रहे हैं ताकि सब को पता चले जो मस्त दिखता है वह स्वस्थ है या रोग ने अन्दर घर कर लिया है. पेट का रोग सभी रोगों का जड़ है. पेट में बैक्टेरिया बहुतायत में होते हैं. अच्छा भी, बुरा भी. अच्छाई और बुराई के बीच लड़ाई अनवरत, निरंतर चलता है. आंखों को दिखता नहीं पर विशेषज्ञ बताते हैं कि अच्छे बैक्टेरिया खाना पचाने में मदद करते हैं. बुरे तो ठहरे खानाखराब, सब खराब करते हैं. पर ऐसा विरले ही होता है कि बुराई जीते. पेट में बुराई का प्रसार हो तो सारा शरीर बीमार हो जाता है. इसलिए आहार पर नियंत्रण ज़रूरी होता है. देश जो खाता पीता है, वह पेट में हलचल मचाता है, हजम हो जाता है या फिर पीड़ा देता है.

राहुल गांधी शहडोल में डोले, ग्वालियर में बोले और उनका फोकस रहा खाद्य सुरक्षा. पेट पर फोकस है. सबका ध्यान उधर है, सबके मन में उदर है. राहुल एमपी हैं, सिंधिया एमपी है. मोदी को दिल्ली में 272 एमपी चाहिए. ये एमपी अजब है, सबसे गज़ब है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें