scorecardresearch
 

राम मंदिर निर्माण के अलावा और क्या-क्या करेगा ट्रस्ट? इन भूमिकाओं पर विचार

एक ट्रस्ट सदस्य के मुताबिक, जल्द ही अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण के श्री गणेश की तिथि तय हो सकती है. माना जा रहा है कि चैत्र प्रतिपदा या राम नवमी की तिथि का चयन हो सकता है.

बैठक में राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट और निर्माण के लिए लेआउट पर होगा विचार बैठक में राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट और निर्माण के लिए लेआउट पर होगा विचार

  • 19 फरवरी को नई दिल्ली में होगी ट्रस्ट की पहली बैठक
  • बैठक में मंदिर निर्माण की तिथि की भी हो सकती है घोषणा

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बने ट्रस्ट की पहली बैठक से पहले मंदिर निर्माण और उससे जुड़ी गतिविधियों के लिए ब्लू प्रिंट बनाया जा चुका है. साथ ही आगे की तैयारियों के लिए कवायद शुरू हो चुकी है. सूत्रों के मुताबिक, अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के अलावा ट्रस्ट की और क्या भूमिका होगी, इस पर भी मंथन जारी है.

बता दें कि 19 फरवरी को नई दिल्ली में ट्रस्ट की पहली बैठक होने जा रही है. बैठक में किन-किन विषयों पर विचार होगा, इसके लिए ट्रस्ट के सभी सदस्यों को अनौपचारिक एजेंडा भी भेजा जा रहा है. बताया जा रहा है कि इस बेहद महत्वपूर्ण पहली बैठक में ट्रस्ट के स्वरूप, उसकी गतिविधियों का खाका खींचा जाएगा. साथ ही राम मंदिर निर्माण के दूरगामी भविष्य को ध्यान में रखते हुए चलाए जाने वाले उपक्रमों के बारे में भी विचार किया जाएगा.

इसे भी पढ़ें: सोने से सजा होगा राम मंदिर का गर्भगृह, पटना के महावीर ट्रस्ट का प्रस्ताव

तारीख का हो सकता है ऐलान

सूत्रों के मुताबिक, ट्रस्ट की पहली बैठक में राम मंदिर निर्माण के लिए लेआउट पर विशेष तौर पर विचार किया जाएगा. बैठक में राम मंदिर निर्माण की तिथि की घोषणा भी की जा सकती है. एक ट्रस्ट सदस्य के मुताबिक, जल्द ही अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण के श्री गणेश की तिथि तय हो सकती है. माना जा रहा है कि चैत्र प्रतिपदा या राम नवमी की तिथि का चयन हो सकता है.

इसे भी पढ़ें: संसद के दोनों सदनों के लिए BJP का व्हिप, ट्रेंड करने लगा यूनिफॉर्म सिविल कोड

सीता, लक्ष्मण और हनुमान के भी मंदिर!

साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि पहली बैठक में सदस्यों की ओर से प्रस्ताव आने पर ट्रस्ट अध्यक्ष का चुनाव भी हो सकता है. अभी गठनकर्ता ट्रस्टी यानी वरिष्ठ अधिवक्ता के परासरन ही पदेन अध्यक्ष हैं.

सूत्रों के मुताबिक राम मंदिर निर्माण तो ट्रस्ट का प्रमुख दायित्व है. इसके साथ ही यह भी प्रयास होगा कि केन्द्र सरकार की ओर से ट्रस्ट को प्रदान की गई भूमि में मर्यादा पुरुषोत्तम के जीवन चरित्र से जुड़ी आर्ट गैलरी, स्मारक व ग्रंथों का संयोजन भी शामिल किया जाए. इसके अलावा सीता, लक्ष्मण, हनुमान और गणेश के मंदिरों का निर्माण, देखरेख और संचालन भी ट्रस्ट करे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें