scorecardresearch
 

राहुल गांधी नहीं मेच्योर, चाहिए वक्त: शीला दीक्षित

अंग्रेजी अखबार 'द टाइम्स ऑफ इंडिया' को दिए इंटरव्यू में शीला ने कहा, 'सियासत में तेजी से बदलते तेवर, भाषा और रिश्तों से पार्टी तालमेल बिठा रही है. आपको याद रखना होगा कि राहुल गांधी अब भी परिपक्व नहीं हैं. उनकी उम्र इस बात की इजाजत नहीं देती. उन्हें और वक्त मिलना चाहिए.

राहुल गांधी को चाहिए मेच्योर होने के लिए वक्त: शीला दीक्षित राहुल गांधी को चाहिए मेच्योर होने के लिए वक्त: शीला दीक्षित

ज्यादातर कांग्रेसियों के लिए राहुल गांधी पार्टी का भविष्य हैं लेकिन दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित की मानें तो राहुल गांधी अब भी मेच्योर नहीं हैं और उन्हें अभी और वक्त की जरुरत है.

'अब भी मेच्योर नहीं राहुल'
अंग्रेजी अखबार 'द टाइम्स ऑफ इंडिया' को दिए इंटरव्यू में शीला ने कहा, 'सियासत में तेजी से बदलते तेवर, भाषा और रिश्तों से पार्टी तालमेल बिठा रही है. आपको याद रखना होगा कि राहुल गांधी अब भी परिपक्व नहीं हैं. उनकी उम्र इस बात की इजाजत नहीं देती. उन्हें और वक्त मिलना चाहिए. कांग्रेस गरीबों की राजनीति में यकीन रखती है. राहुल किसानों की बात करने वाले इकलौते राष्ट्रीय नेता हैं.' दीक्षित के मुताबिक राहुल गांधी ने सियासत में लंबा वक्त फासला तय किया है और उनके पास पीएम बनने के कई मौके आएंगे.

इस साल अध्यक्ष बनेंगे राहुल?
पूर्व मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि राहुल गांधी को इस साल ही पार्टी का अध्यक्ष बनाया जा सकता है. उनके मुताबिक, 'इस फैसले को राहुल गांधी की मंजूरी का इंतजार है. मुझे लगता है पार्टी चुनाव खत्म होने के बाद ये कदम उठाएगी.

प्रियंका की तारीफ
दीक्षित ने इंटरव्यू में प्रियंका गांधी की जमकर तारीफ की. उनकी नजर में प्रियंका एक संवेदनशील और बुद्धिमान नेता हैं और लोगों को बेहद ध्यान से सुनती हैं. उन्होंने खामोशी से यूपी में समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन को शक्ल दी है. हालांकि प्रियंका के सक्रिय राजनीति में आने पर उन्होंने कुछ नहीं कहा.

'नहीं छोड़ा प्रचार मैदान'
शीला दीक्षित ने इन कयासों का भी खंडन किया कि वो यूपी में चुनाव प्रचार नहीं कर रही हैं. उनकी मानें तो वो पार्टी के कार्यक्रम के मुताबिक अपना योगदान दे रही हैं और पार्टी उन्हें जो भी जिम्मेदारी देगी, उसे वो पूरा करेंगी. लिहाजा ये नहीं माना जाना चाहिए कि उन्होंने सियासत से रिटायरमेंट ले ली है.

अभी परिपक्व नहीं हुए हैं राहुल गांधी
केंद्र सरकार में पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि राहुल गांधी को अभी उनकी पार्टी के लोग ही सीरियस नहीं लेते हैं. वो कांग्रेस पार्टी के बड़े नेता हैं और अभी भी परिपक्व नहीं हुए हैं. इसलिए मैं उनके बारे में कुछ नहीं कहना चाहता हूं. उन्होंने कहा कि देर से ही सही शीला दीक्षित को ध्यान में आया और स्वीकार किया है कि राहुल अभी परिपक्व नहीं हैं. इसके लिए मैं शीला दीक्षित को बधाई देता हुं. वैसे भी राहुल गांधी को जनता हर जगह नकार रही है.

उन्होंने कहा कि मुझे मेरे प्रधानमंत्री की सोच पर गर्व महसूस होता है कि गधे से भी देश के लिए काम करने की प्रेरणा लेते हैं. यूपी की राजनीति देश की राजनीति की दिशा तय करता है इसलिए मैं ये कहूंगा कि महाराष्ट्र और उड़ीसा की जीत के बाद ये बात साबित हो गई है कि यूपी में इससे भी ज़्यादा सीटों से जीतकर सरकार बनाए गए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें