scorecardresearch
 

नोटबंदी के असर को लेकर एसबीआई ने दिया बड़ा बयान

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने आशंका जाहिर की है कि देश की अर्थव्यवस्था को धीमा करने और कारोबार पर विपरीत प्रभाव डालने पर नोटबंदी का असर बना रह सकता है.

 एसबीआई ने दिया बड़ा बयान एसबीआई ने दिया बड़ा बयान

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने आशंका जाहिर की है कि देश की अर्थव्यवस्था को धीमा करने और कारोबार पर विपरीत प्रभाव डालने पर नोटबंदी का असर बना रह सकता है.उल्लेखनीय है कि सरकार ने आठ नवंबर 2016 को 500 और 1000 रपये के पुराने नोटों को चलन से बाहर कर 500 और 2,000 रुपये के नए नोटों कों शुरू किया था.

एसबीआई ने निजी नियोजन के माध्यम से 15,000 करोड़ रुपए जुटाने से पहले अपने सांस्थानिक निवेशकों को सूचना देने वाले दस्तावेज में कहा था कि भारतीय अर्थव्यवस्था और बैंकिंग क्षेत्र पर नोटबंदी का दीर्घकालिक प्रभाव अनिश्चित है.

बता दें कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने हाल हीं में 75 लाख से ऊपर के होम लोन की ब्याज दर में कटौती की है और 75 लाख से ऊपर के होम लोन में 10 बेसिस प्वाइंट की कटौती की गई है. बैंक का यह फैसला 15 जून से लागू होगा.जिसमें सैलरी पाने वाली कामकाजी महिलाओं के लिए संशोधित ब्याज दर 8.55 प्रतिशत सालाना होगी, जबकि अन्य के लिए यह 8.60 प्रतिशत सालाना होगी. बैंक का यह फैसला छोटी राशि के होम लोन पर ब्याज दर घटाने के फैसले के बाद आया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें