scorecardresearch
 

व्यंग्य: बीजेपी की हार पर मनोज तिवारी और स्मृति ईरानी की राय

चलिए अच्छा हुआ. किरण बेदी को पार्टी ज्वाइन कराने का बीजेपी को कम से कम एक फायदा तो हुआ. किरण बेदी प्रोफेशनल इनवेस्टिगेटर रही हैं .

X
बीजेपी नेता
बीजेपी नेता

चलिए अच्छा हुआ. किरण बेदी को पार्टी ज्वाइन कराने का बीजेपी को कम से कम एक फायदा तो हुआ. किरण बेदी प्रोफेशनल इनवेस्टिगेटर रही हैं . दिल्ली में बीजेपी की हुई भीषण हार के मामले में तो बेदी ने चार कदम आगे बढ़ कोर्ट की तरह खुद संज्ञान लेते हुए तफ्तीश कर डाली. बेदी ने अपनी प्राइमा फेसी जांच में पाया है कि ये सब एक फतवे का नतीजा है.

दरअसल हार की सही वजह का पता लगाने की पहल खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की थी. जिस तरह संस्थाओं के लिए लोगो और नाम रखने में प्रधानमंत्री लोगों की राय मंगाते हैं उसी तरह इस बार उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से हार के कारणों पर राय देने को कहा था. इसके लिए बाकायदा एक वेबसाइट भी बनाई गई जिस पर कार्यकर्ताओं ने जम कर भड़ास निकाली है. वेबसाइट पर बीजेपी के कई सीनियर नेताओं की राय और टिप्पणियां हैं. उनमें से सबसे ज्यादा पसंद की गई तीन टिप्पणियां आप नीचे पढ़ सकते हैं -

मनोज तिवारी: मैं बचपन से सुनता आया हूं कि पुलिसवालों की न दोस्ती अच्छी न दुश्मनी अच्छी. अब थानेदार को घर बुलाओगे तो क्या हाल होगा. जिसके घर थानेदार आने लगे तो अड़ोसी-पड़ोसी तो तुरंते कट जाएंगे. हम लोग जमीन से जुड़े लोग हैं. हम लोगों के मन की बात जानते हैं. मेरी नई नई नौकरी लगी है भइया. इससे ज्यादा कहना ठीक नहीं होगा. मैंने तो पहले ही चेता दिया था. इससे ज्यादा मैं कर भी क्या सकता हूं.

स्मृति ईरानी: मेरा तो मानना है कि देश में मोदी लहर जरा भी फीकी नहीं पड़ी है. मैंने इस सिलसिले में दिल्ली के कई लोगों से बात की है. लोगों का कहना है कि इस बार मोदी जी ने खुद के लिए वोट मांगा ही नहीं. लोकसभा चुनाव में मोदी जी कहते थे, ‘भाइयों और बहनों मुझे वोट दो’. लोगों ने किसी न किसी को वोट तो देना ही था जिसने मांगा उसे दे दिया. मैं भी मानती हूं कि किरण बेदी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया जाना बहुत ही गलत फैसला था. मेरी राय में अगर मोदी जी को ही [कुछ दिन के लिए ही सही] मुख्यमंत्री के तौर पर प्रोजेक्ट कर दिया जाता तो चुनाव आसानी से जीता जा सकता था.  

लालकृष्ण आडवाणी: मैंने तो उसी वक्त ब्लॉग पर लिख दिया था. दिल्ली के लिए आखिर सुषमा को प्रोजेक्ट करने में क्या बुराई थी? उसके पास एक बार का ठीक-ठाक अनुभव भी था. और कुछ न सही – सुषमा कम से कम अपनी सीट तो बचा ही लेती. वैसे भी जब से केंद्र में भाजपा की सरकार बनी है, सुषमा खाली ही बैठी रहती है. दिल्ली चुनाव में थोड़ी दौड़-धूप होती तो उसकी सेहत के लिए बेहतर होता. अब मेरी सुनता ही कौन है.

अब बीजेपी के वे नेता जिनकी किरण बेदी को लाने में अहम भूमिका रही – वे इस केस की जांच सीबीआई से कराने के पक्ष में हैं - क्योंकि उन पर अब उंगली उठने लगी है. ये नेता फिलहाल अलग थलग पड़ गए हैं.

वेबसाइट पर किरण बेदी की जांच को लेकर अपने कमेंट में कई कार्यकर्ताओं ने पूछा है कि फतवे से उनका आशय शाही इमाम के बयान से है या बराक ओबामा की टिप्पणी से? ऐसे कमेंट अन्य कार्यकर्ताओं द्वारा खूब लाइक किये जा रहे हैं.

बताते हैं कि प्रधानमंत्री द्वारा बनाई एक कमेटी कार्यकर्ताओं की राय पर गौर करेगी और उस पर अपनी रिपोर्ट तैयार करेगी – जिसे नागपुर भेजा जाएगा. इस कमेटी में अरुण जेटली, अमित शाह सहित सात बीजेपी नेता शामिल किए गए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें