scorecardresearch
 

संसद में ‘भगवा आतंकवाद’ के मुद्दे पर बवाल

गृह मंत्री पी चिदंबरम द्वारा ‘भगवा आतंकवाद’ शब्द का प्रयोग किए जाने पर सख्त एतराज करते हुए भाजपा ने आज चेतावनी दी कि देश में इसपर भारी प्रतिक्रिया होगी और उसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी.

X

गृह मंत्री पी चिदंबरम द्वारा ‘भगवा आतंकवाद’ शब्द का प्रयोग किए जाने पर सख्त एतराज करते हुए भाजपा ने आज चेतावनी दी कि देश में इसपर भारी प्रतिक्रिया होगी और उसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी.

भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरलीमनोहर जोशी ने लोकसभा में जम्मू कश्मीर की स्थिति पर विशेष चर्चा में हिस्सा लेते हुए यह चेतावनी दी. सदन में उपस्थित चिदंबर से मुखातिब होते हुए उन्होंने कहा, ‘आप भगवा आतंकवाद की बात कह गए. मैं बड़ी विनम्रता से कहता हूं. भगवा आतंकवाद का प्रतीक हो ही नहीं सकता.’

इससे पहले शिवसेना के सदस्यों ने भी यह मुद्दा उठाते हुए चिदंबर से माफी मांगने और इस्तीफा देने की मांग की. इस मुद्दे पर इस पार्टी के सदस्यों ने सदन से वाकआउट भी किया.

जोशी ने चिदंबरम से कहा, ‘बराय महरबानी, ऐसे शब्दों का प्रयोग नहीं करें. अन्यथा देश भर में भारी प्रतिक्रिया होगी, या शायद आप इस तरह की प्रतिक्रिया पैदा करना ही चाहते हों. बहरहाल, अगर आप ऐसा चाहते हैं तो उसकी भी भारी प्रतिक्रिया होगी.’

चिदंबरम ने कल पुलिस महानिदेशकों और निरीक्षकों से सम्मेलन के उद्घाटन भाषण में मक्का मस्जिद, अजमेर दरगार और मालेगांव आदि में हुए आतंकी हमलों के संदर्भ में कहा था कि भगवा आतंक का नया आयाम सामने आ रहा है. जोशी ने कहा, चिदंबरम को शायद मालूम नहीं कि आजादी से पहले कांग्रेस पार्टी ने ही राष्ट्रीय ध्वज सुझाने के लिए एक समिति गठित की थी जिसने पूरी तरह से भगवे झंडे का सुझाव दिया था.

उन्होंने कहा कि हमारे राष्ट्रीय ध्वज के ऊपर भगवा रंग है. यह ध्वज दुनिया में जहां जाएगा भगवा रंग जाएगा. उन्होंने कहा कि प्राचीन काल में भी अमेरिका से लेकर चीन और पूर्व एशिया तक भारत के साधु-संत-आचार्य भगवा रंग में लिपट कर ही भारतीय दर्शन लेकर गए.

उधर राज्यसभा में लोक जनशक्ति पार्टी के नेता रामविलास पासवान ने भगवा आतंकवाद का मुद्दा उठाया जिसके चलते उच्च सदन की कार्यवाही में कुछ समय व्यवधान पैदा हुआ.

सदन की बैठक शुरू होते ही पासवान ने प्रश्नकाल निलंबित कर भगवा आतंकवाद के बढ़ने के मुद्दे पर चर्चा कराने की मांग की. इस संदर्भ में उन्होंने नोटिस भी दिया था.

भाजपा सदस्यों ने कड़ी आपत्ति जताते हुए लोजपा नेता को साम्प्रदायिक’ करार दिया और कहा कि वह बिहार में आगामी विधानसभा चुनाव देखते हुए हल्की राजनीति कर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें