scorecardresearch
 

सेमी न्यूड पेंटिंग केस: रेहाना फातिमा की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

सुप्रीम कोर्ट ने सामाजिक कार्यकत्री रेहाना फातिमा की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया गया है. रेहाना फातिमा अपनी सेमी न्यूड पेंटिंग को लेकर केस का सामना कर रही हैं.

रेहाना फातिमा (फाइल फोटो) रेहाना फातिमा (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने सामाजिक कार्यकत्री रेहाना फातिमा की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया गया है. रेहाना फातिमा उस वक्त सुर्खियों में आई थीं, जब उनके नाबालिग बेटे और बेटी को उनकी अर्ध नग्न शरीर (सेमी न्यूड) की पेंटिंग करते देखा गया था. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था.

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रथम दृष्टया यह अश्लीलता फैलाने का मामला है. इससे नाबालिग बच्चों पर देश की संस्कृति को लेकर क्या प्रभाव पड़ेगा. इससे पहले केरल हाई कोर्ट ने रेहाना फातिमा की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया था. रेहाना फातिमा सबरीमाला मंदिर में प्रवेश को लेकर भी चर्चा में रही हैं.

रेहाना को BSNL से अनिवार्य रिटायरमेंट, सबरीमाला में घुसने की थी कोशिश

बीते दिनों ही सबरीमाला मंदिर में प्रवेश को लेकर सुर्खियों में आईं रेहाना फातिमा को बीएसएनएल से अनिवार्य रिटायरमेंट लेने के लिए कहा गया था. रेहाना फातिमा को सौंपे गए आदेश के अनुसार, सबरीमाला में प्रवेश करने के उनके प्रयास के विवाद ने ग्राहक के बीच कंपनी की प्रतिष्ठा को बिगाड़ दिया है.

आंतरिक जांच की रिपोर्ट के आधार पर, रेहाना फातिमा को अब सेवा से अनिवार्य सेवानिवृत्ति लेने के लिए कहा गया था. इस पर रेहाना फातिमा ने कहा कि वह बीएसएनएल के फैसले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगी. अनिवार्य सेवानिवृत्त किए जाने के फैसले को उचित मंच पर चुनौती दूंगी. रेहाना ने आरोप लगाया कि इसके पीछे राजनीति हस्तक्षेप है.

एक्टिविस्ट रेहाना फातिमा ने टॉपलेस होकर बच्चों से बनवाई पेंटिंग, FIR

इंडिया टुडे से एक बातचीत में रेहाना फातिमा ने कहा था, 'मैं अपने शरीर का इस्तेमाल महिलाओं के शरीर को लेकर जो लोग दकियानूसी और परंपरावादी सोच और रवैया दिखाते हैं, उसके विरोध में करती हूं.' 2014 में रेहाना ने कोच्चि में मॉरल पोलिसिंग के खिलाफ ‘किस ऑफ लव’ कैम्पेन में भी हिस्सा लिया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें