scorecardresearch
 

नोटबंदी के एक साल: रविशंकर प्रसाद बोले- कांग्रेस को काले धन से प्यार

रविशंकर प्रसाद ने राहुल गांधी  पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि अगर राहुल गांधी किसी और पार्टी में होते तो कब का पार्टी से बाहर कर दिए गए होते.

X
रविशंकर प्रसाद रविशंकर प्रसाद

भारतीय जनता पार्टी जहां नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर देशभर में जश्न मना रही है, वहीं विपक्षी पार्टियां नोटबंदी के खिलाफ 'ब्लैक डे' मना रही हैं. नोटबंदी को लेकर दोनों ही ओर से तीखी बयानबाजियां भी हो रही हैं.

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भ्रष्टाचार को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है और कहा कि कांग्रेस को काले धन से प्यार है.

उन्होंने कहा, "कांग्रेस को काले धन से प्यार है, यह बात तो समझ में आती है, लेकिन बाकी विपक्ष को क्या हो गया है. चुनाव में हार-जीत चलता रहता है. चुनाव हारने के बाद इस तरह से काले धन का विरोध करेंगे! देश देख रहा है."

उत्तर प्रदेश में इसी वर्ष हुए विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच हुए गठबंधन का संदर्भ देते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा, "यूपी चुनाव में दोनों लड़कों (राहुल गांधी और अखिलेश यादव) का क्या हुआ, सब जानते हैं. अब गुजरात चुनाव में तीन नए लड़कों के साथ आए हैं. देश की जनता समझदार है, सब समझती है."

केंद्रीय मंत्री ने नोटबंदी के फायदे गिनाते हुए कहा, "नोटबंदी के बाद कश्मीर में पत्थरबाजी की घटना में कमी आई है. आतंकवादियों की फंडिंग में कमी आई है, देश की जनता कैशलेस की ओर बढ़ रही है. इसमें कोई शक नहीं है कि देश की जनता ईमानदार है."

रविशंकर प्रसाद ने गुजरात चुनाव के लिए आक्रामक तरीके से चुनाव प्रचार कर रहे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर भी तीखी बयानबाजी की.

उन्होंने कहा, "राहुल गांधी आजकल कुछ बोल रहे हैं. कभी अपने कुत्ते को लेकर ट्वीट कर देते हैं. आज भी उन्होंने एक पूर्व सैनिक नंदलाल पर ट्वीट किया है, जो मोदी जी का समर्थक रहा है. राहुल गांधी ने कांग्रेस का नाम बदलकर ऑल इंडिया फेक न्यूज मैन्युफैक्चर कर दिया है. पता नहीं कौन उनके लिए होमवर्क कर रहा है. जो कर रहा है वो भी ठीक से नहीं कर रहा है."

उन्होंने कहा, "अगर राहुल गांधी किसी और पार्टी में होते तो कब का पार्टी से बाहर कर दिए गए होते. वह जहां भी जाते हैं वहां कांग्रेस हार जाती है."

रविशंकर प्रसाद ने नोटबंदी को गौरव की बात और देश के लिए ऐतिहासिक फैसला करार दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें