scorecardresearch
 

अब पासवान बोले- भारत, PAK और बांग्लादेश ‘महासंगठन’ बन सकते हैं

पासवान ने कहा, 'हम नहीं कह सकते कि यह फिर से एकजुट हो सकते हैं या नहीं, अगर तीनों देश एकजुट होते हैं तो यह बहुत अच्छा होगा.'

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान

बीजेपी महासचिव राम माधव के 'अखंड भारत' वाले बयान को दरकिनार करते हुए केंद्रीय मंत्री रामविलवास पासवान ने रविवार को कहा कि भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश को मिलाकर ‘महासंगठन’ बनना चाहिए, जिसमें समान मुद्रा और मुक्त व्यापार हो. उन्होंने दावा किया कि ऐसा करने से आतंकवाद का बड़े पैमाने पर खात्मा हो जाएगा.

पासवान ने समाचार एजेंसी को दिए इंटरव्यू में कहा, 'हम नहीं कह सकते कि यह फिर से एकजुट हो सकते हैं या नहीं, अगर तीनों देश एकजुट होते हैं तो यह बहुत अच्छा होगा. अगर वे फिर से एक देश नहीं बनें तो भी एक महासंगठन बन सकते हैं. भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश पहले एक देश थे.'

गौरतलब है कि इससे पहले राम माधव ने कहा था कि तीनों देश लोकप्रिय सद्भावना के माध्यम से अखंड भारत का निर्माण करेंगे. माधव ने कतर आधारित चैनल अलजजीरा से बातचीत में यह बयान दिया था.

'मुक्त व्यापार, समान मुद्रा और आवाजाही'
एलजेपी प्रमुख ने तीनों देशों के बीच समान मुद्रा, मुक्त व्यापार और लोगों की आवाजाही से रोक हटाने के विचार की पैरवी करते हुए कहा, 'ये तीनों देश महासंगठन बन सकते हैं. इससे आतंकवाद बड़े पैमाने पर खत्म हो जाएगा.' पासवान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लाहौर के औचक दौरे को ‘मास्टरस्ट्रोक’ करार देते हुए कहा कि यह दोनों देशों के लोगों के दिलों को जोड़ने का प्रयास है.

उन्होंने कहा, 'सीमा के दोनों तरफ के लोग दोनों देशों के बीच स्थाई मित्रता चाहते हैं. सिर्फ आतंकवादी नई दिल्ली और इस्लामाबाद के बीच अच्छे संबंधों का विरोध करते हैं.' पासवान ने कहा कि उनकी पार्टी निजी क्षेत्र में अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए आरक्षण की मांग को लेकर लड़ाई लड़ रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें