scorecardresearch
 

राजधानी चंडीगढ़ को लेकर हाई कोर्ट ने हरियाणा और पंजाब सरकार से मांगे दस्तावेज

पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने राजधानी चंडीगढ़ को लेकर पंजाब और हरियाणा सरकार को एक आदेश दिया है. कोर्ट ने दोनों ही राज्यों की सरकार से कहा कि चंडीगढ़ अगर राजधानी थी तो इसका एक कागजी सबूत दें. अदालत ने ये आदेश वकील फूल चंद की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है.

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट (Courtesy- PTI) पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट (Courtesy- PTI)

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने राजधानी चंडीगढ़ को लेकर पंजाब की अमरिंदर सरकार और हरियाणा की खट्टर सरकार को एक आदेश दिया है. हाईकोर्ट ने दोनों ही राज्यों की सरकार से कहा कि चंडीगढ़ अगर राजधानी थी, तो इसका एक कागजी सबूत दें. अदालत ने ये आदेश वकील फूल चंद की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है.

उन्होंने अपनी याचिका में कहा था कि चंडीगढ़ में प्रतिनियुक्ति के लिए पंजाब और हरियाणा के अधिकारियों के लिए एक निश्चित कोटा है, लेकिन पंजाब और हरियाणा में चंडीगढ़ निवासियों के लिए कोई कोटा नहीं था.

आपको बता दें कि चंडीगढ़ एक प्लान्ड शहर है, जो पंजाब और हरियाणा दोनों राज्यों की राजधानी है. चंडीगढ़ में पंजाब हरियाणा के विधानसभाओं और सचिवालयों के अलावा पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट भी है. प्राकृतिक सुंदरता के चलते चंडीगढ़ को सिटी ब्यूटीफुल भी कहा जाता है.

चंडीगढ़ इतिहास और विरासतों से रचा बसा एक केंद्र शासित प्रदेश है. चंडीगढ़ शहर को फ्रांसीसी मॉडर्निस्ट आर्किटेक्ट ली कार्बूजियर ने डिजाइन किया था. इस शहर में पियरे जिएन्नरेट, मैथ्यु नोविकी और अल्बर्ट मेयर के भी अद्भुत वास्तु नमूने देखे जा सकते हैं.

वहीं, फिलहाल चंडीगढ़ लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी की किरण खेर सांसद हैं. चंडीगढ़ सीट पर पहली बार 1967 में लोकसभा चुनाव हुए थे और बीजेपी के चांद गोयल को जीत मिली थी. किरण खेर से पहले यहां से कांग्रेस नेता और पूर्व रेलमंत्री पवन कुमार बंसल सांसद रहे. इस सीट से पवन कुमार बंसल ने 4 बार जीत दर्ज की, जिसमें से उन्होंने तीन बार लगातार जीत दर्ज की. बसंल से पहले यहां से बीजेपी के सतपाल जैन ने लगातार दो बार जीत दर्ज की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें