scorecardresearch
 

जावड़ेकर बोले- पराली नष्ट करने के लिए जल्द होगा नई तकनीक का इस्तेमाल

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि केंद्र सरकार दिल्ली और एनसीआर में प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए पांच राज्यों को एक साथ ला रही है. ताकि प्रदूषण के खिलाफ व्यापक कार्य योजना बनाई जा सके.

प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को भारी उद्योग मंत्रालय का प्रभार संभाला (फोटो-Twitter) प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को भारी उद्योग मंत्रालय का प्रभार संभाला (फोटो-Twitter)

  • 'प्रदूषण से निपटने के लिए व्यापक कार्य योजना'
  • प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की 50 टीमें कर रही है दौरा
पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि दिल्ली में प्रदूषण का बड़ा फैक्टर पराली जलाना है. प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि राजधानी दिल्ली में प्रदूषण की समस्या को लेकर केंद्र सरकार ने कई कदम उठाए हैं. उन्होंने कहा, "जब हम दिल्ली में प्रदूषण की बात करते हैं तो हमें दिल्ली की भौगोलिक स्थिति का ध्यान रखना होगा, यहां पर या तो बहुत कम हवा है या फिर हवा है ही नहीं. उन्होंने कहा कि जब हवा चलती है तो प्रदूषण का स्तर कम हो जाता है लेकिन हवा थमने पर यहां परेशानी पैदा हो जाती है. मोदी सरकार ने वाहनों का प्रदूषण कम करने के लिए कई कदम उठाए हैं, और इसका असर भी दिख रहा है."

केंद्र ने उठाए कदम

बता दें कि प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को भारी उद्योग मंत्रालय का प्रभार संभाल लिया है. शिवसेना सांसद अरविंद सावंत के एनडीए से इस्तीफा देने के बाद ये पद खाली हुआ था. इस मौके पर उन्होंने कहा कि धूल से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं. उन्होंने कहा कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की 50 टीमें दिल्ली में कई जगहों पर दौरा कर रही है और धूल पैदा करने के कारणों की जांच कर रही है, ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि केंद्र सरकार ने दिल्ली और एनसीआर में प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए पांच राज्यों को एक साथ ला रही है. ताकि प्रदूषण के खिलाफ व्यापक कार्य योजना बनाई जा सके.

'पराली जलाने के लिए नई तकनीक का इस्तेमाल'

पर्यावरण मंत्री ने कहा कि इस बार दिल्ली में बहुत कम पटाखे जलाये गए इसके लिए वे यहां के लोगों को बधाई देते हैं. केंद्रीय मंत्री ने कहा दिल्ली में जो कचरा जलाया जाता है हम उस पर भी रोक लगा रहे हैं, पराली का जलाना भी बड़ा फैक्टर है. अगले साल तक ये काफी कम हो जाएगा क्योंकि नई तकनीक को बढ़ावा दे रहे हैं. केंद्रीय मंत्री के मुताबिक ईंट की भट्ठों को कोयले की जगह वैकल्पिक ईंधन दिया जा रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×