scorecardresearch
 

सीटों के बंटवारे पर शिवसेना और बीजेपी में ठनी, 'हवस' का जवाब 'नपुंसकता' से

महाराष्ट्र में सीटों के बंटवारे को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है. शिव सेना 150 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए अड़ी है तो बीजेपी ने 135-135 का फार्मूला दिया है.

X
'पंचायत आज तक' में उद्धव ठाकरे 'पंचायत आज तक' में उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र में सीटों के बंटवारे को लेकर बीजेपी और शिव सेना के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है. शिवसेना ने बीजेपी के प्रस्ताव को खारिज करते हुए आज कहा कि बीजेपी को 135 सीटें देना संभव नहीं है. शिवसेना 150 सीटों पर विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए अड़ी है तो बीजेपी ने 135-135 का फार्मूला दिया है.

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने सोमवार को कहा, '25 साल से हमारा गठबंधन चल रहा है और कायम है. मैंने अपनी मांग रखी है. मैंने अपनी भूमिका के बारे में बीजेपी को बता दिया है. चर्चा जारी है.' एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'मैंने कभी नहीं कहा कि मोदी के बिना हम जीते हैं. जीत में उनका योगदान है.'

रविवार को भी दोनों पार्टियों की तरफ से जुबानी तीर चले. सीनियर बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि बीजेपी आलाकमान पर पार्टी कैडर की तरफ से सभी 288 सीटों पर चुनाव लड़ने का 'दबाव' है.

'हवस' का जवाब 'नपुंसकता' से
बीजेपी और शिवसेना के बीच सियासी तनातनी में 'सामना' के छपे सम्पादकीय ने आग में घी डालने का काम किया जिसमें कहा गया था कि 'ज्यादा सेक्स की डिमांड से तलाक भी हो सकता है.' यह भी कहा गया कि गठबंधन में सहयोगी दलों को जीत का सपना देखना चाहिए. लेकिन इसके लिए सभी दलों को ज्यादा सीटों की 'हवस' छोड़नी होगी.

शिवसेना की इस टिप्प्णी पर बीजेपी की तरफ से तीखा जवाब आया. एक अंग्रेजी अखबार ने बीजेपी के एक सीनियर नेता के हवाले से लिखा है, 'मैं चेतावनी देना चाहता हूं कि नपुंसकता भी तलाक की एक वजह हो सकती है.'

शिवसेना चाहती है उद्धव बनें सीएम
बीजेपी ने शिवसेना को प्रस्ताव भेजकर बराबर सीटों पर लड़ने की बात कही थी. महाराष्ट्र बीजेपी के प्रभारी राजीव प्रताप रुडी ने रविवार को कहा कि गठबंधन की छोटी पार्टियों के साथ सीट बंटवारे के बाद बीजेपी और शिवसेना 135-135 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. वहीं, शिवसेना प्रवक्ता नीलम गोरे ने कहा कि जिसको ज्यादा सीटें मिलेंगी, उसी का सीएम होगा. उन्होंने कहा, 'हम चाहते हैं कि उद्धव सीएम बनें.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें