scorecardresearch
 

तमिलनाडुः पेरियार की जयंती पर युवक ने काटा गोबर का केक, मुकदमा दर्ज

वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है. घटना धर्मपुरी जिले के हरुर की बताई जाती है.

पेरियार की प्रतिमा पेरियार की प्रतिमा

  • चप्पलों की माला डाली, फेसबुक पर अपलोड किया वीडियो
  • युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच में जुटी पुलिस

द्रविड़ आंदोलन की शुरुआत करने वाले इरोड वेंकट नायकर रामासामी उर्फ पेरियार की जयंती 17 सितंबर को थी. उनकी जयंती पर दक्षिण भारत में विविध आयोजन हुए. इन सभी के बीच कुछ युवकों ने दिग्गज नेता पेरियार की जयंती पर गोबर से बना केक काटा और वीडियो बनाकर फेसबुक पर डाल दिया.

वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है. घटना धर्मपुरी जिले के हरुर की बताई जाती है. हरुर पुलिस ने द्रविड़ कषगम और वीसीके के सदस्यों की तहरीर पर एक युवक अरसन के खिलाफ इंडियन पैनल कोड की धारा 153(A)1(a), 505(1) (b) (C) के तहत मुकदमा दर्ज किया है.

'बीजेपी का सदस्य है आरोपी'

वीडियो में दिख रहे एक युवक की पहचान कलाई अरसन के रूप में हुई है. बताया जाता है कि कलाई अरसन भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का सदस्य है. अरसन ने पेरियार की जयंती के दिन गाय के गोबर से बना केक काटा. अरसन ने अपने फेसबुक अकाउंट पर केक काटने और उसे चप्पलों से बनी माला से सजाते हुए उसका वीडियो अपलोड कर दिया.

वीडियो फेसबुक पर अपलोड किए जाने के बाद द्रविड़ कषगम और वीसीके के सदस्यों ने हरुर पुलिस स्टेशन में कलाई अरसन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई.

बता दें कि 17 सितंबर 1879 को जन्मे रामासामी ने हिंदू धर्म की रूढ़ियों के खिलाफ दक्षिण भारत में द्रविड़ आंदोलन की शुरुआत की थी. दक्षिण भारत में चले द्रविड़ आंदोलन ने कई नेता पैदा किए. रामासामी को सम्मान के साथ लोगों ने पेरियार नाम दिया था. तमिल भाषा में पेरियार शब्द का अर्थ सम्मानित व्यक्ति होता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें