scorecardresearch
 

PAK हाई कमीशन के दावे को अनुपम खेर ने नकारा, कहा- 18 में से सिर्फ मुझे नहीं दिया वीजा

पाकिस्तान ने बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर को वीजा देने से इनकार कर दिया है. उन्हें कराची में आयोजित साहित्य महोत्सव में हिस्सा लेने जाना था.

X
अनुपम खेर को वीजा देने से पाकिस्तान का इनकार
अनुपम खेर को वीजा देने से पाकिस्तान का इनकार

बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर को पाकिस्‍तान ने वीजा देने से इनकार कर दिया है.

मिली जानकारी के मुताबिक अनुपम खेर को पाकिस्‍तान में आयोजित होने वाले पाक साहित्‍य महोत्‍सव के लिए जाना था. हालांकि अब वीजा न मिलने की वजह से वे वहां नहीं जा पाएंगे. यह साहित्य महोत्सव 5 फरवरी से कराची में शुरू होने वाला है.

अनुपम खेर ने कहा कि मैं इस खबर से बेहद दुखी हूं. उन्‍होंने बताया कि पाकिस्‍तान सरकार ने 18 में से 17 लोगों को तो वीजा दे दिया पर मुझे देने से इनकार कर दिया.

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तानी हाई कमिश्नर ने कहा कि हमें अभी तक अनुपम खेर की तरफ से वीजा एप्लिकेशन नहीं मिली है. हमारे ऊपर वीजा न देने के आरोप सरासर गलत हैं.

हालांकि, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कराची साहित्य महोत्सव के आयोजकों ने दिल्ली स्थित पाक हाई कमीशन को उन लोगों की लिस्ट दी थी जिन्हें महोत्सव के पाकिस्तान जाना था उसमें अनुपम खेर का नाम था लेकिन पाकिस्तानी हाई कमीशन ने अनुपम के नाम पर आपत्ति जताई और आयोजकों से भी लिस्ट से अनुपम खेर का नाम हटाने को कहा. अब विवाद बढ़ने पर पाकिस्तानी हाई कमीशन ने कहा है कि कोई एप्लिकेशन ही नहीं आई थी.

इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व गृह सचिव और बीजेपी सांसद आर.के. सिंह ने कहा कि अनुपम खेर को वीजा न मिलना दुर्भाग्यपूर्ण है. वहीं सुधीन्द्र कुलकर्णी ने कहा की कलाकारों को सियासत से दूर रखा जाना चाहिए. गौरतलब है कि पाकिस्तानी गजल गायक गुलाम अली के भारत में कई कार्यक्रम शिवसेना के विरोध के कारण रद्द करने पड़े थे.

'झूठ बोल रहा है पाकिस्तान'
अनुपम खेर ने कहा कि पाकिस्तानी हाई कमिशन झूठ बोल रहा है कि उन्होंने वीजा के लिए कोई अर्जी नहीं दी थी. उन्होंने कहा, 'पाकिस्तानी हाई कमिशन झूठ बोल रहा है, बाकी 17 लोगों को वीजा मिल गया. सिर्फ मुझे वीजा देने से इनकार कर दिया गया.'

अनुपम ने कहा कि शायद कश्मीरी पंडित होने की वजह उन्हें वीजा नहीं दिया गया है या फिर इसके पीछे पीएम मोदी का समर्थन करना एक वजह हो सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें