scorecardresearch
 

कांग्रेस ने पूछा- मोदी अपने प्रिय मित्र नवाज के बारे में क्या कहेंगे, BJP बोली- बेल वालों को हो जेल

चार साल पहले जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ ले रहे थे तब नवाज शरीफ खास मेहमानों में शामिल थे. शपथ ग्रहण के करीब छह महीने बाद फिर वो लम्हा भी आया जब नवाज शरीफ की नातिन मेहरुन्निसा की सगाई में पाकिस्तान पहुंच गए.

X
नवाज शरीफ के साथ पीएम मोदी (फाइल फोटो- Getty Images) नवाज शरीफ के साथ पीएम मोदी (फाइल फोटो- Getty Images)

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम शरीफ की गिरफ्तारी को लेकर भारत की दो राष्ट्रीय पार्टियों के बीच जुबानी जंग देखने को मिली. पहले कांग्रेस ने शरीफ और पीएम मोदी की दोस्ती को लेकर बीजेपी पर हमला किया. इसके बाद बीजेपी ने भी कांग्रेस को इसी अंदाज में जवाब दिया.

कांग्रेस ने शनिवार को ट्वीट कर कहा, 'नवाज शरीफ को भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार किया गया है. हम जानना चाहते हैं कि पीएम मोदी अपने प्रिय मित्र के बारे में क्या कहेंगे.'

इसके बाद कांग्रेस पार्टी के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए बीजेपी ने लिख, 'प्रधानमंत्री जी क्या देश का हर आदमी इस पर यही कह रहा है कि, भारत में भी जो नेता बेल पर घूम रहे हैं, उन्हें भी जेल में जाना ही है!'

दरअसल चार साल पहले जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ ले रहे थे तब नवाज शरीफ खास मेहमानों में शामिल थे. शपथ ग्रहण के करीब छह महीने बाद फिर वो लम्हा भी आया जब नवाज शरीफ की नातिन मेहरुन्निसा की सगाई में पाकिस्तान पहुंच गए.

शरीफ की नातिन को आशीर्वाद दिया. उनकी पत्नी को शॉल भेंट की, इससे पहले जब शरीफ मोदी के शपथ ग्रहण में शरीक हुए थे तो उनकी पत्नी के लिए साड़ी लेकर आए थे.पीएम मोदी और नवाज शरीफ की साड़ी-शॉल कूटनीति से ऐसा लगा था कि आपसी गर्मजोशी का सकारात्मक असर भारत-पाकिस्तान के रिश्तों पर भी नजर. कांग्रेस ने नवाज शरीफ से इन्हीं रिश्तों को लेकर पीएम मोदी पर तंज कसा है.

गौरतलब है कि नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम शरीफ दोनों को गत 6 जुलाई को लंदन में चार आलीशान फ्लैटों की मिल्कियत से जुड़े एवेनफील्ड संपत्ति मामले में दोषी ठहराया गया था.

शरीफ (68) और उनकी बेटी मरियम (44) को एक जवाबदेही अदालत ने क्रमश: दस और सात साल की कैद की सजा सुनायी है. शरीफ का परिवार जवाबदेही अदालत में भ्रष्टाचार के दो और मामलों अल अजीजिया स्टील मिल्स और फ्लैगशिप इंवेस्टमेंट्स का सामना कर रहा है. इसमें उन पर मनिलॉन्ड्रिंग, कर चोरी और विदेशों में सम्पत्ति छुपाने का आरोप है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें