scorecardresearch
 

नेशनल हेराल्ड केसः सोनिया, राहुल को फौरी राहत, अब 19 दिसंबर को पेशी का आदेश

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी को आज कोर्ट में पेश होना पड़ेगा. मामला नेशनल हेराल्ड केस का है.

X
सोनिया गांधी और राहुल गांधी
सोनिया गांधी और राहुल गांधी

दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने नेशनल हेराल्ड केस सुबह-सुबह ही मुल्तवी कर दिया. सुबह करीब साढ़े दस बजे कार्यवाही शुरू हुई और आधे घंटे बाद कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख मुकर्रर कर दी. कोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को 19 दिसंबर को दोपहर बाद तीन बजे पेश होने का आदेश दिया है. यानी फिलहाल 11 दिन के लिए दोनों को पेशी से छूट मिल गई.

सिंघवी बोले- हमारा केस मजबूत
कांग्रेस प्रवक्ता और वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि हमारा केस मजबूत है और हम कानूनी दायरे में अपनी लड़ाई लड़ेंगे. सिंघवी ने कहा कि ये पूरा मामला राजनीतिक बदले के अलावा और कुछ नहीं है. एक बीजेपी नेता इस मामले को बेवजह तूल दे रहे हैं. आगे की रणनीति के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि रणनीति कैमरे पर बताने के लिए नहीं है. हमने वीरभद्र सिंह से लेकर चिदंबरम तक के केस देखे हैं.

इससे पहले कांग्रेस ने कहा था कि वह आदेश के ख‍िलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी. सिंघवी ने कहा था, 'हम फैसले को चुनौती देंगे. यह आश्चर्य है कि मामले में आज फैसला आएगा, यह हाई कोर्ट की लिस्ट में नहीं था. फोन पर सुबह अचानक सूचना दी गई.'

सुब्रमण्यम स्वामी ने लगाई थी याचिका
बीजेपी नेता और वकील सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर दिल्ली की निचली अदालत ने सोनिया और राहुल गांधी को नेशनल हेराल्ड केस में हाजिर होने के लिए समन भेजा था. लेकिन दोनों ने इस समन को दिल्ली हाई कोर्ट में चुनौती दी थी.

क्या है नेशनल हेराल्ड केस
द एसोसिएट्स जर्नल्स लिमिटेड (टीएजेएल) नेशनल हेराल्ड अखबार की मालिकाना कंपनी है. कांग्रेस ने 26 फरवरी 2011 को टीएजेएल की 90 करोड़ रुपये की देनदारियों को अपने जिम्मे ले लिया. इसका अर्थ यह हुआ कि पार्टी ने टीएजेएल को 90 करोड़ का लोन दे दिया. इसके बाद 5 लाख रुपये से यंग इंडियन कंपनी बनाई गई, जिसमें सोनिया और राहुल की 38-38 फीसदी हिस्सेदारी है. बाकी की 24 फीसदी हिस्सेदारी कांग्रेस नेता मोतीलाल वोरा और ऑस्कर फर्नांडीज के पास है.

'हवाला कारोबार का अंदेशा'
इसके बाद टीएजेएल के 10-10 रुपये के नौ करोड़ शेयर 'यंग इंडियन ' को दे दिए गए और इसके बदले यंग इंडियन को कांग्रेस का लोन चुकाना था. 9 करोड़ शेयर के साथ यंग इंडियन को टीएजेएल की 99 फीसदी शेयर हासिल हो गई. इसके बाद कांग्रेस पार्टी ने 90 करोड़ का लोन भी माफ कर दिया. यानी 'यंग इंडियन' को मुफ्त में टीएजेएल का स्वामित्व मिल गया. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने इस 90 करोड़ रुपये के प्रकरण में हवाला कारोबार का शक जताया है.

'हेराल्ड हाउस पर कब्जा करने की कोशिश'
स्वामी का आरोप है कि यह सब कुछ दिल्ली में बहादुर शाह जफर मार्ग पर स्थित हेराल्ड हाउस की 1,600 करोड़ रुपये की बिल्डिंग पर कब्जा करने के लिए किया गया. अपनी याचिका में बीजेपी नेता ने लिखा है कि साजिश के तहत यंग इंडियन लिमिटेड को टीजेएल की संपत्ति का अधिकार दिया गया है. हेराल्ड हाउस को फिलहाल पासपोर्ट ऑफिस के लिए किराए पर दिया गया है. स्वामी का कहना है कि हेराल्ड हाउस को केंद्र सरकार ने समाचार पत्र चलाने के लिए जमीन दी थी, इस लिहाज से उसे व्यावसायिक उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें