scorecardresearch
 

मोदी की सरकार न होती तो रुपया 100 रुपये तक गिर जाताः शाहनवाज हुसैन

आजतक के कार्यक्रम मुंबई मंथन के तीसरे सत्र भागवत की बात मानेंगे मोदी? में असदुद्दीन ओवैसी और बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज़ हुसैन ने शिरकत की.

आजतक के कार्यक्रम में शाहनवाज हुसैन आजतक के कार्यक्रम में शाहनवाज हुसैन

आजतक के खास कार्यक्रम मुंबई मंथन के सत्र 'भागवत की बात मानेंगे मोदी?' में AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी और बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन में जबर्दस्त बहस हुई. गिरते रुपये के मुद्दे पर ओवैसी ने मोदी सरकार को घेरा और कहा कि बीजेपी के राज मे डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत गिरती जा रही है लेकिन सरकार और पार्टी के नेता उसके बारे में बात नहीं करते. वे इन मुद्दों पर ध्यान न जाए इसके लिए मंदिर-मस्जिद की बात करते हैं.

शाहनवाज हुसैन ने इस पर ओवैसी की बात को काटते हुए कहा कि रुपया इसलिए गिर रहा है क्योंकि वैश्विक परिस्थितियां विपरीत हैं. दुनिया में कोई भी करेंसी डॉलर के मुकाबले नहीं टिक पा रही लेकिन ये सिर्फ मोदी सरकार है जिसकी वजह से रुपया टिका हुआ है. मोदी की सरकार न होती तो डॉलर 100 रुपये तक गिर जाता.

ओवैसी ने हुसैन के तर्क पर पलटवार करते हुए उनकी समझ पर सवाल उठाया और कहा कि उन्हें तो देश का वित्त मंत्री होना चाहिए. हुसैन और ओवैसी के बीच राम मंदिर, सीबीआई, सबरीमाला, मोदी सरकार, राहुल गांधी सहित विभिन्न मुद्दों पर जबर्दस्त बहस हुई.

इसके अलावा राफेल, तेल कीमतों, मॉब लिचिंग के मुद्दे पर भी ओवैसी ने हुसैन को कटघरे में खड़ा किया जबकि हुसैन ने ओवैसी पर विभाजनकारी राजनीति करने और सिर्फ मुस्लिमों की बात करने का आरोप लगाया. मुंबई मंथन के मंच से एनसीपी के मुखिया शरद पवार, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सहित राजनीति, बॉलीवुड, खेल जगह के कई दिग्गजों ने अपनी बात रखी और सवालों के जवाब दिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें