scorecardresearch
 

नरेंद्र मोदी और बराक ओबामा की बैठक में रक्षा, सुरक्षा पर होगा खास ध्यान

अमेरिकी प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के बीच पहली बार हो रही बैठक में रक्षा और सुरक्षा मुद्दों पर विशेष जोर रहेगा.

X
बराक ओबामा और नरेंद्र मोदी बराक ओबामा और नरेंद्र मोदी

अमेरिकी प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के बीच पहली बार हो रही बैठक में रक्षा और सुरक्षा मुद्दों पर विशेष जोर रहेगा.

अधिकारियों के अनुसार अगले हफ्ते वाशिंगटन स्थित व्हाइट हाउस में जब ओबामा और मोदी के बीच लगातार दो दिन बैठक होगी तो ऊर्जा, जलवायु परिवर्तन और व्यापार एवं अर्थव्यवस्था चर्चा के महत्वपूर्ण क्षेत्र होंगे. इन बैठकों से दोनों नेताओं को एक दूसरे को जानने और आपस में व्यक्तिगत घनिष्ठता स्थापित करने में मदद मिलेगी.

एक शीर्ष प्रशासनिक अधिकारी ने कहा, 'राष्ट्रपति और प्रथम महिला वाशिंगटन और व्हाइट हाउस में प्रधानमंत्री के स्वागत को लेकर बहुत उत्साहित और खुश हैं. दोनों लोकतांत्रिक राष्ट्रों के इतिहास में यह एक ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण क्षण हैं.' अधिकारियों ने कहा कि मोदी की यात्रा अंतरराष्ट्रीय मामलों को लेकर एक निर्णायक समय में हो रही है जब पश्चिम एशिया में आतंकवादियों के खिलाफ लड़ाई से लेकर पूर्वी अफ्रीका में लोगों और सरकारों के सामने इबोला से पैदा हुई चुनौतियों जैसे संकट बने हुए हैं. अधिकारी ने कहा कि इस अंतरराष्ट्रीय परिस्थिति में दोनों नेता सोमवार और मंगलवार को यहां बैठक करेंगे.

राष्ट्रपति के निमंत्रण पर मोदी ब्लेयर हाउस में ठहरेंगे. ओबामा और प्रथम महिला (मिशेल ओबामा) मोदी के न्यूयॉर्क से लौटने पर 29 सितंबर को उनके लिए एक निजी रात्रिभोज की मेजबानी करेंगे. मोदी इसे पहले संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सत्र में शामिल होने के लिए न्यूयॉर्क में होंगे. मोदी और ओबामा मंगलवार, 30 सितंबर की सुबह को व्हाइट हाउस के ओवल ऑफिस में अपनी औपचारिक बैठक करेंगे.

इसके बाद उपराष्ट्रपति जो बाइडेन और विदेश मंत्री जॉन केरी विदेश विभाग के फॉगी बॉटम स्थित मुख्यालय में मोदी के लिए दोपहर के भोज की मेजबानी करेंगे. अधिकारी ने कहा, 'हम सभी वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करने और उन मुद्दों एवं चुनौतियों से एकसाथ निपटने के माध्यमों पर विचार करने को लेकर बेहद उत्सुक हैं.' अधिकारी ने कहा कि अमेरिका रणनीतिक भागीदारी को पुनर्जीवित करने के लिए उत्सुक हैं. अधिकारी ने दोहराया कि अमेरिका अंतरराष्ट्रीय मामलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले एक मजबूत भारत का निरंतर समर्थन करता है और प्रधानमंत्री की अमेरिका यात्रा से दोनों नेताओं को साथ बैठने और 21वीं सदी की इस निर्णायक भागीदारी के लिए एक दृष्टि तैयार करने का अवसर मिलेगा. एक दूसरे वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दोनों नेताओं के इस बात पर चर्चा करने की उम्मीद है कि अमेरिका किस तरह भारत के आर्थिक लक्ष्य और उद्देश्यों को लेकर उसके साथ भागीदारी कर सकता है. इन उद्देश्यों में निर्माण और कौशल और बुनियादी क्षेत्र को लेकर मोदी की प्राथमिकताएं शामिल हैं. अधिकारी ने कहा, ‘हम भारत की ऊर्जा सुरक्षा पर निरंतर जोर दिए जाने को लेकर और उस लक्ष्य एवं उद्देश्य को आगे बढ़ाने के लिए हम कैसे साथ काम कर सकते हैं, उसे लेकर उत्सुक हैं. इनमें उन 40 करोड़ भारतीयों के लिए बिजली आपूर्ति का विषय शामिल है जिन्हें इस समय अपर्याप्त बिजली मिल रही है. हमारी चर्चाओं में विशेष तौर पर स्वच्छ ऊर्जा एवं स्वच्छ तकनीक और इस क्षेत्र में हम अपनी भागीदारी कैसे बढ़ा सकते हैं, यह महत्वपूर्ण होगा.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें