scorecardresearch
 

केरल में बाढ़ का कहर जारी, अब तक 121 लोगों की मौत

केरल में बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या 121 पर पहुंच गई है. मलप्पुरम में 58, कवलप्परा में 46 और कोजीकोड में 17 लोगों की मौत हो गई. वहीं मलप्पुरम से 13 और वायनाड से 7 लोगों के लापता होने की खबर है.

वायनाड और मलप्पुरम में बाढ़ ने सबसे ज्यादा तबाही मचाई है (फाइल फोटो) वायनाड और मलप्पुरम में बाढ़ ने सबसे ज्यादा तबाही मचाई है (फाइल फोटो)

केरल में बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या 121 पर पहुंच गई है. मलप्पुरम में 58, कवलप्परा में 46 और कोजीकोड में 17 लोगों की मौत हो गई. वहीं मलप्पुरम से 13 और वायनाड से 7 लोगों के लापता होने की खबर है. बाढ़ के कारण 1789 घर तबाह हो गए हैं. वहीं 26668 लोगों को 185 राहत शिविरों में रखा गया है. वायनाड और मलप्पुरम में बाढ़ ने सबसे ज्यादा तबाही मचाई है.

केरल सरकार ने शुक्रवार कहा था कि बाढ़ में जितने भी लोग लापता हैं, जब तक उन्हें ढूंढ नहीं निकाला जाता या उनके शव नहीं मिल जाते, तब तक सर्च ऑपरेशन जारी रहेगा. उत्तर से लेकर दक्षिण तक भारत भारी बारिश और बाढ़ की मार झेल रहा है. हिमाचल प्रदेश में भी बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या 22 हो गई है. वहीं शिमला से 2 लोगों के लापता होने की खबर है.

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश के कारण नदियां उफान पर हैं. शिमला में सतलज नदी में आई बाढ़ की वजह से चबा क्षेत्र में बना पुल डूब गया. पुल के कुछ हिस्सों को नुकसान भी पहुंचा है. 9 लोगों की मौत शिमला, 5 की सोलन, 2 की कुल्लू, सिरमौर और चंबा में हुई है. महाराष्ट्र में भी हालात खराब हैं. बाढ़ के कारण पुणे में 56 लोग की मौत हो चुकी है. ज्यादातर मौतें कोल्हापुर और सांगली जिले में हुई हैं.

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में रविवार को बादल फटने के बाद 17 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं सोमवार को जम्मू में तवी नदी का जलस्तर अचानक बढ़ गया जिसके बाद दो लोग नंदी में निर्माणाधीन पुल पर फंस गए. दोनों को वायु सेना ने एयरलिफ्ट कर रेस्क्यू कराया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें