scorecardresearch
 

बिजनेस क्लास से दिल्ली आना चाहते थे कार्ति, सीबीआई ने कहा- सिर्फ इकोनॉमी क्लास की मंजूरी

कार्ति चिदंबरम चाहते थे कि सीबीआई उन्हें चेन्नई से दिल्ली लाते समय हवाई जहाज के बिजनेस क्लास में लेकर आए. इस पर सीबीआई अधिकारियों ने कार्ति को बताया कि नियमों के तहत उन्हें इकोनॉमी क्लास में ही ले जाया जा सकता है.

कार्ति चिदंबरम कार्ति चिदंबरम

पूर्व वित्त मंत्री और गृहमंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम चाहते थे कि सीबीआई उन्हें गिरफ्तार करके चेन्नई से दिल्ली लाते समय हवाई जहाज के बिजनेस क्लास में लेकर आए. इस पर सीबीआई अधिकारियों ने कार्ति को बताया कि नियमों के तहत उन्हें इकोनॉमी क्लास में ही ले जाया जा सकता है.

सीबीआई के सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया कि कार्ति ने इसके बाद सीबीआई अधिकारियों से कहा कि उन्हें जेट एयरवेज से ले जाया जाए. कार्ति ने कहा कि वह नियमित रूप से जेट एयरवेज की फ्लाइट्स इस्तेमाल करते हैं, शायद वह उनके टिकट को अपग्रेड कर बिजनेस क्लास में बदल दे. हालांकि, सीबीआई अधिकारियों ने स्पष्ट तौर पर कार्ति से कहा कि उन्हें इकोनॉमी क्लास में ही ले जाने के निर्देश हैं.

कार्ति बुधवार को लंदन से भारत आए थे. यहां आते ही उन्हें सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया. कार्ति के पिता पी. चिदंबरम भी लंदन में थे और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में उनका एक लेक्चर होना था. पी. चिदंबरम ने कार्ति की गिरफ्तारी के बाद इसे रद्द कर दिया.

कार्ति चिदंबरम को सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग केस में चेन्नई एयरपोर्ट से ही गिरफ्तार कर लिया था. उन्हें चेन्नई से दिल्ली लाकर अदालत में पेश किया गया. सीबीआई को उनकी एक दिन की रिमांड मिली. उनकी आज फिर से कोर्ट में पेशी होनी है. कार्ति जमानत के लिए अपील कर रहे हैं.

आपको बता दें कि अपनी बेटी शीना वोरा की हत्या के केस में जेल में बंद और आईएनएक्स मीडिया मालिक इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी ने दावा किया था कि उन्होंने पी. चिदंबरम और कार्ति चिदंबरम से अलग-अलग मुलाकात की थी. इस मुलाकात से उन्हें विदेशी फंड लेने में मदद मिली थी. आरोप हैं कि इस फंड को लेने के निए नियमों से खिलवाड़ किया गया. यह काम करवाने के लिए कार्ति की कंपनी को 10 लाख रुपये मिले थे.

इंद्राणी का यह बयान ईडी ने दर्ज किया है. कार्ति के खिलाफ ईडी और सीबीआई जांच कर रही हैं. ईडी का कहना है कि इंद्राणी ने सीबीआई के सामने भी यही बयान दिया है.

कार्ति की ओर से पेश हुए वकील और कांग्रेसी नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा है कि सीबीआई का यह आरोप गलत है कि कार्ति जांच में मदद नहीं कर रहे थे. उन्होंने कहा कि सीबीआई ने जब भी समन दिया, कार्ति उनके सामने पेश हुए. वहीं, सीबीआई ने बुधवार को कहा था कि उन्हें जानकारी मिली थी कि कार्ति लंदन में रहकर अपने खिलाफ सबूतों को नष्ट कर रहे थे  और जांच में मदद नहीं कर रहे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें