scorecardresearch
 

जेएनयू में बढ़ी फीस को लेकर टकराव जारी, आज संसद तक मार्च निकालेगा छात्र संघ

जेएनयू छात्र संघ ने हॉस्टल फीस बढ़ाने के खिलाफ जेएनयू से संसद तक मार्च निकालने का ऐलान किया है. यह मार्च सोमवार सुबह 10 बजे जेएनयू से निकलेगा और संसद पहुंचेगा.

जेएनयू में छात्रों का विरोध प्रदर्शन (फाइल फोटो-PTI) जेएनयू में छात्रों का विरोध प्रदर्शन (फाइल फोटो-PTI)

  • हॉस्टल फीस में इजाफा पर JNU प्रशासन और छात्रों के बीच टकराव
  • JNU छात्र संघ बढ़ी फीस के खिलाफ संसद तक निकालेगा मार्च

हॉस्टल फीस में भारी इजाफा के चलते जेएनयू प्रशासन और छात्रों के बीच टकराव खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. अब जेएनयू छात्र संघ ने हॉस्टल फीस बढ़ाने के खिलाफ जेएनयू से संसद तक मार्च निकालने का ऐलान किया है. यह मार्च सोमवार सुबह 10 बजे जेएनयू से निकलेगा और संसद पहुंचेगा.

जेएनयू छात्रसंघ बढ़ी फीस के अलावा अन्य मुद्दों पर भी मार्च निकालेगा. छात्र संघ की ओर से जारी पर्चे में कहा गया है कि फरवरी 2019 के सीएजी रिपोर्ट के मुताबिक सेकेंड्री और हायर से 94,036 करोड़ रुपयों का इस्तेमाल नहीं किया गया. सीएजी रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि 7298 करोड़ रुपये रिसर्च और विकास कार्यों में खर्च होने थे जो नहीं हुए.

छात्र संघ का दावा है कि नेशनल एजुकेशन पॉलिसी ने पब्लिक फंडेड एजुकेशन के दरवाजे विदेशी और कॉर्पोरेट शिक्षा के लिए बंद कर दिए हैं. क्या इसी वजह से ऐसा हुआ है. 5.7 लाख करोड़ बैड लोन और 4 लाख करोड़ टैक्स रिबेट्स कॉर्पोरेट को दिए गए. लेकिन पब्लिक फंडेड एजुकेशन के लिए कुछ नहीं दिया गया.

बढ़ी फीस की रकम पर नाराजगी

छात्र संघ ने सीबीएसआई, आईआईटी, नवोदय विद्यालय और उत्तराखंड में भी बढ़ी हुई फीस को भी खारिज किया है, साथ ही कहा है कि भारत के अन्य विश्वविद्यालयों में भी फीस कम की जाए.

jnu_111719094054.jpgJNSU की ओर से जारी पर्चा

छात्र संघ ने कहा कि देश में विदेशी विश्वविद्यालय नहीं खुलने चाहिए, साथ ही किसी भी तरह से पब्लिक फंडेड यूनिवर्सिटी पर प्रहार नहीं होना चाहिए.

सांसदों से क्या है मांग?

छात्र संघ ने देश के सांसदों से सवाल किया है कि बढ़ी हुई फीस पर वे साथ देंगे. क्या सभी के लिए वे पब्लिक फंडेड एजुकेशन की मांग करेंगे. क्या वे पब्लिक फंडेड एजुकेशन पर हो रहे प्रहार को रोकेंगे? छात्र संघ का कहना है कि छात्र आगे बढ़कर मांग करें साथ ही नीति निर्माताओं को इस बात का जवाब देने दें कि शिक्षा अधिकार है, विशेषाधिकार नहीं.

राज्यसभा सांसद ने किया छात्रों का समर्थन

केरल से राज्यसभा सांसद ए. करीम ने जेएनयू के रजिस्ट्रार को पत्र लिखकर इस बात दुख जताया कि उन्हें जेएनयू कैंपस में छात्रों के प्रदर्शन में शामिल होने से रोक दिया गया. उन्होंने कहा कि मुझे रविवार को प्रदर्शनकारी छात्रों को संबोधित करना था और इसके लिए मैं दिल्ली भी पहुंच गया था, लेकिन स्वास्थ्य कारणों से शामिल नहीं हो पाया. इन छात्रों को मेरा समर्थन है. बता दें कि जेएनयू प्रशासन ने सांसद को जेएनयू में चल रहे स्टूडेंट्स के प्रोटेस्ट में शामिल ना होने के लिए लेटर लिखा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें