scorecardresearch
 

J&K: आंतकियों ने BJP नेता के घर पर बोला धावा, पार्टी नहीं छोड़ने पर जान से मारने की दी धमकी

पुलिस सूत्रों के अनुसार कुछ आतंकी रात का फायदा उठाकर शोपियां के नडपोरा में स्थ‍ित बीजेपी नेता के घर में जबरदस्ती दाखिल हो गए. इसके बाद उन्होंने मोहम्मद भट्ट के बेटे और इलाके में बीजेपी के पार्टी वर्कर मोहम्मद मकबूल भट्ट को पार्टी से इस्तीफा देने की धमकी दी. आतंकियों ने मकबूल को पार्टी जल्द से जल्द छोड़ देने को कहा.

X
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

जम्मू कश्मीर में पीडीपी विधायकों के बाद अब बीजेपी के नेताओं पर भी हमले होने शुरू हो गए हैं. बीजेपी पार्टी सदस्य मोहम्मद मकबूल भट्ट को पार्टी छोड़ने की धमकी मिली है. आतंकियों ने ऐसा नहीं करने पर उन्हें जान से मारने की धमकी दी.

पुलिस सूत्रों के अनुसार कुछ आतंकी रात का फायदा उठाकर शोपियां के नडपोरा में स्थ‍ित बीजेपी नेता के घर में जबरदस्ती दाखिल हो गए. इसके बाद उन्होंने मोहम्मद भट्ट के बेटे और इलाके में बीजेपी के पार्टी वर्कर मोहम्मद मकबूल भट्ट को पार्टी से इस्तीफा देने की धमकी दी. आतंकियों ने मकबूल को पार्टी जल्द से जल्द छोड़ देने को कहा.

आपको बता दें कि जम्मू कश्मीर में इससे पहले आतंकियों ने पिछले कुछ महीनों में कई पीडीपी नेता को निशाना बनाया है. वर्तमान में राज्य में पीडीपी और बीजेपी की गठबंधन की सरकार है. शायद यही बात आतंकियों को रास नहीं आ रही है. कश्मीर में शांति स्थापित होते नहीं देखना चाहते हैं. इससे पहले अक्टूबर में दक्षिण कश्‍मीर में आतंकियों ने कुलगाम में पीडीपी के विधायक के काफिले पर हमला कर दिया था. हमले में एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी और एक अन्‍य पुलिसकर्मी गंभीर रूप से जख्‍मी हो गया था. हमले में विधायक बाल-बाल बच गए थे. हमला करने वाले आतंकियों की तलाश में इलाके मे तलाशी अभियान छेड़ा गया था.

अक्टूबर में ही पुलवामा जिले के ट्राल इलाके के दादसेरा गांव में स्थानीय PDP लीडर के घर को आतंकियों ने न सिर्फ नुकसान पहुंचाया बल्कि फायरिंग करते हुए वारदात वाली जगह से फरार हो गए थे. वहीं इससे पहले जम्मू एवं कश्मीर के अनंतनाग में आतंकवादियों ने पू्र्व सरपंच रसूल गनी की गोली मारकर हत्या कर दी थी. पूर्व सरपंच गनी PDP से जुड़े थे और शॉपकीपर थे.

वहीं आपको बता दें कि आतंकियों ने राजपोरा इलाके के कस्बायर इलाके में फायरिंग की थी. हमले में 45 साल के पीडीपी वर्कर बशीर अहमद डार और उनके चचेरे भाई अल्ताफ अहमद डार को गोलियां लगी थी. दोनों लोगों को गंभीर हालत में पुलवामा अस्पताल ले जाया गया था. बशीर को डॉक्टरों ने फौरन मृत घोषित कर दिया था. गौरतलब है कि पिछले एक साल से घाटी में लगातार तनाव के हालात बढ़ रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें