scorecardresearch
 

इंदिरा जयसिंह की अपील- सोनिया गांधी की तरह नजीर पेश करें निर्भया की मां, दोषियों को दें माफी

1999 में तत्कालीन विपक्ष की नेता सोनिया गांधी ने उस समय के राष्ट्रपति के आर नारायणन से मुलाकात की थी. सोनिया ने तत्कालीन राष्ट्रपति से कहा था कि 1991 में हुई उनके पति राजीव गांधी की हत्या की दोषी नलिनी श्रीहरन की मौत की सजा को माफ किया जाए.

इंदिरा जयसिंह (फाइल फोटो) इंदिरा जयसिंह (फाइल फोटो)

  • 'सोनिया की तरह बड़ा दिल दिखाएं आशा देवी'
  • इंदिरा जयसिंह ने आशा देवी से की अपील
  • निर्भया के दोषियों की मौत की सजा करें माफ

सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने निर्भया की मां से अपील करते हुए कहा है कि वे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी जैसा नजीर पेश करते हुए अपने बेटी के बलात्कारियों की फांसी की सजा माफ कर दें. सोनिया गांधी ने अपने पति और देश के पीएम रहे राजीव गांधी की हत्या में दोषी करार दी गई एक मात्र महिला नलिनी श्रीहरन की मौत की सजा माफ कर दी थी.

आशा के साथ सहानुभूति, लेकिन मौत की सजा के खिलाफ

इंदिरा जयसिंह ने ट्वीट कर कहा है कि वे आशा देवी के साथ हैं, उनके तकलीफ और दुख-दर्द को समझती हैं, लेकिन वे मौत की सजा के खिलाफ हैं. इंदिरा जय सिंह ने ट्वीट कर कहा, "जहां एक ओर मैं आशा देवी के दुख तकलीफ को मैं पूरी तरह से समझती हूं, वहीं मैं उनसे अपील करती हूं कि वे सोनिया गांधी की तरह उदाहरण प्रस्तुत करें जिन्होंने नलिनी को माफ किया था और कहा कहा था कि वे उसके लिए मौत की सजा नहीं चाहती हैं. हमलोग आपके साथ हैं, लेकिन मौत की सजा के खिलाफ हैं."

नलिनी की मौत की सजा सोनिया ने की थी माफ

1999 में तत्कालीन विपक्ष की नेता सोनिया गांधी ने उस समय के राष्ट्रपति के आर नारायणन से मुलाकात की थी. सोनिया ने तत्कालीन राष्ट्रपति से कहा था कि 1991 में हुई उनके पति राजीव गांधी की हत्या की दोषी नलिनी श्रीहरन की मौत की सजा को माफ किया जाए.

जब नलिनी को सजा हुई थी उस वक्त वो गर्भवती थी. इस मामले में उसके पति को भी मौत की सजा हुई थी. साल 2000 में तमिलनाडु कैबिनेट की सिफारिश पर तत्कालीन राज्यपाल एम फातिमा बीवी ने नलिनी की फांसी की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया गया था. 2018 में उसकी पति की मौत की सजा को भी उम्र कैद में तब्दील कर दिया गया.

इंदिरा जयसिंह की सलाह पर भड़कीं निर्भया की मां- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी

इस मामले में बाद में प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा था कि उनकी मां ने नलिनी की मौत की सजा माफ करने की अपील की थी क्योंकि वे एक और मासूम बच्चे पर तकलीफों का पहाड़ टूटते हुए नहीं देख सकती थी. बता दें कि नलिनी जेल जाते वक्त गर्भवती थी. 1992 में वेल्लोर जेल में नलिनी की बेटी का जन्म हुआ. प्रियंका ने कहा था, "मेरी मां इस पीड़ा से गुजर चुकी थी, फिर वो वैसा ही दर्द दूसरे के साथ होते हुए भला कैसे देख सकती थी, नलिनी की बच्ची निर्दोष थी, इस बच्ची का इन सब चीजों से क्या लेना देना था."

एक फरवरी को होनी है फांसी

बता दें कि पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों के लिए नया डेथ वारंट कोर्ट ने जारी कर दिया है. अब विनय, मुकेश, पवन और अक्षय  1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें