scorecardresearch
 

भारतीय वैज्ञानिकों ने बनाया भैंस का क्लोन

भारतीय वैज्ञानिकों ने एक बार फिर दुनिया में अपना लोहा मनवाया है. उन्होंने पहली बार भैंस का क्लोन विकसित करने में सफलता हासिल की है.

भारतीय वैज्ञानिकों ने एक बार फिर दुनिया में अपना लोहा मनवाया है. उन्होंने पहली बार भैंस का क्लोन विकसित करने में सफलता हासिल की है. यही नहीं, इस क्लोन में डाली के क्लोन से भी बेहतर तकनीक का इस्तेमाल किया गया है.

भारत के राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान (एनडीआरआई) ने यह जानकारी दी. संस्थान ने कहा कि उसने विश्व में पहली बार भैंस का क्लोन विकसित किया है. हरियाणा में करनाल स्थित इस संस्थान में तैयार क्लोन कटरा है. संस्थान ने कहा कि इसे बनाने में डॉली (भेड़) के मुकाबले बेहतर तकनीक का इस्तेमाल किया गया है.

करनाल स्थित एनडीआरआई के पशु प्रौद्योगिकी केंद्र के वैज्ञानिक ने एक बयान में कहा कि हैंडगाईडेड क्लोनिंग तकनीक उस पारंपरिक क्लोनिंग तकनीक का बेहतर परिवर्तित रूप है जिसका उपयोग डॉली की क्लोनिंग के लिए किया गया था. भैंस क्लोन का जन्म छह फरवरी को एनडीआरआई परिसर में हुआ. बयान में कहा गया कि नई तकनीक में उपकरण समय और कौशल की जरूरत कम है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें