scorecardresearch
 

लखवी की जमानत पर भारत के विरोध से तिलमिलाया पाकिस्तान, लगा डाली आरोपों की झड़ी

मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड जकीउर रहमान लखवी की जमानत को लेकर भारत की ओर से दर्ज कराए जा विरोध से पाकिस्तान तिलमिला गया है.

X
Zaki-ur-Rehman Lakhvi Zaki-ur-Rehman Lakhvi

मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड जकीउर रहमान लखवी की जमानत को लेकर भारत की ओर से दर्ज कराए जा विरोध से पाकिस्तान तिलमिला गया है.  'डॉन' ऑनलाइन की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता तसनीम असलम ने कहा कि लखवी की जमानत पर भारत में बेवजह चर्चा हो रही है, जो कि दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा कि मामले की सुनवाई अदालत में चल रही है और भारत को इंतजार करना चाहिए. इतना ही नहीं, तसनीम असलम ने भारत पर पलटवार करते हुए समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट का मुद्दा भी उठाया है. वह यहीं पर नहीं रुकीं उन्होंने तो LOC पर गोलीबारी के लिए भी भारत को ही जिम्मेदार ठहरा दिया.

(इंडिया के 10 मोस्ट वांटेड आतंकवादी)

असलम ने कहा कि समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट मुंबई हमलों दो साल पहले हुए थे, लेकिन इस मामले में अभी तक सजा नहीं हो पाई है. वादा करने के बावजूद भारत ने इस बारे में किसी भी जांच या निष्कर्ष को पाकिस्तान से साझा नहीं किया है.

शांति वार्ता पटरी से उतारने का भी आरोप मढ़ा

असलम ने भारत पर शांति वार्ता को पटरी से उतारने का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा, 'रीजन में शांति के लिए पाकिस्तान के पास एक दृष्टिकोण है और हम इसके लिए प्रयास करते हैं, लेकिन भारत ने विदेश सचिव स्तरीय वार्ता को रद्द कर दिया और अब उसका फर्ज बनता है कि वह इस मामले में पहल करे.'

न्यायिक हिरासत में भेजा गया लखवी

26/11 हमलों का मास्टरमाइंड और लश्कर ए तैयबा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी को पाकिस्तान की कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. पाकिस्तान सरकार ने लखवी की सशर्त जमानत को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. पाकिस्तान सरकार ने अपनी याचिका में कोर्ट को बताया कि लखवी को जमानत देते समय हाईकोर्ट ने सरकारी वकील की जिरह नहीं सुनी थी.

सोमवार को इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने लखवी को सशर्त जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया था. उससे जमानत राशि (सिक्योरिटी बांड) के रूप में दस लाख रुपए जमा करने के लिए कहा गया था. लखवी की जामनत के बाद भारत ने कड़ा विरोध दर्ज कराया था, जिसके पाक सरकार ने उसकी जमानत को चुनौती देने का फैसला किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें