scorecardresearch
 

LAC पर हालात तनावपूर्ण, 10 जवानों की रिहाई के बाद खुल सकता है बातचीत का रास्ता

मेजर जनरल स्तर की बातचीत के बाद 10 भारतीय जवानों को चीनी सेना ने गुरुवार शाम यानी झड़प के तीन दिन बाद छोड़ दिया है. जवानों की रिहाई के बाद शुक्रवार को दोनों देशों के बीच कोई वार्ता प्रस्तावित नहीं थी, लेकिन माना जा रहा है कि जल्द ही दोनों देशों के बीच बातचीत फिर से शुरू होगी.

एलएसी पर भारतीय सेना ने तैनाती बढ़ाई (फोटो-PTI) एलएसी पर भारतीय सेना ने तैनाती बढ़ाई (फोटो-PTI)

  • चीनी सेना ने 10 भारतीय जवानों को बनाया था बंधक
  • तीन दिन की बातचीत के बाद कल रिहा हुए जवान

भारत और चीन के बीच बातचीत के लिए मामले को सुलझाने की कोशिशें तेज हो गई है. दरअसल, गलवान घाटी के पेट्रोलिंग प्वाइंट-14 में सोमवार रात को हुए हिंसक झड़प के बाद चीन ने भारतीय सेना के 10 जवानों को बंधक बना लिया था. 20 भारतीय जवानों की शहादत के साथ ही 10 जवानों के बंधक बनाए जाने से तनावपूर्ण माहौल था.

मेजर जनरल स्तर की बातचीत के बाद 10 भारतीय जवानों को चीनी सेना ने गुरुवार शाम यानी झड़प के तीन दिन बाद छोड़ दिया है. बंधक बनाए गए जवानों में दो सैन्य अफसर भी शामिल थे. जवानों की रिहाई के बाद शुक्रवार को दोनों देशों के बीच कोई वार्ता प्रस्तावित नहीं थी, लेकिन माना जा रहा है कि जल्द ही दोनों देशों के बीच बातचीत फिर से शुरू होगी.

गलवान की हिंसक झड़प के 3 दिन बाद चीन ने 2 मेजर समेत 10 जांबाजों को छोड़ा

गुरुवार को भारतीय सेना और विदेश मंत्रालय ने कहा था कि कोई भी आर्मी जवान न तो लापता है और न ही बंधक बनाया गया है. हिंसक झड़प के बाद दोनों देशों के मेजर जनरल ने लगातार तीन दिनों तक बैठक की और बंधक बनाए गए भारतीय जवानों की रिहाई पर बात हुई. हालांकि, अभी साफ नहीं कि भारतीय जवानों की रिहाई किस शर्त या आधार पर हुई है.

10 भारतीय जवानों के वापसी के बाद भी गलवान घाटी में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है. गलवान घाटी और पैंगॉन्ग झील के पास दोनों देशों की ओर से अतिरिक्त जवानों की तैनाती की गई है. यह वही इलाका है, जहां 5 मई को दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने आ गई थी और झड़प हुई थी.

चीन विवाद: सर्वदलीय बैठक से पहले विपक्ष के तीखे तेवर, सोनिया पूछेंगी सवाल, AAP खफा

15 जून की रात को गलवान घाटी में दोनों देशों की सेनाओं की बीच हिंसक झड़प हुई थी, इसलिए यहां माहौल तनावपूर्ण है, लेकिन पैंगॉन्ग झील के बाद चाइनीज कैंप लग जाने के बाद वहां भी तनाव की स्थिति है. यह इलाका भारत के कंट्रोल में रहता था, लेकिन चीन ने यहां अपना कैंप लगा लिया है.

भारत की ओर से अप्रैल से पहले के हालात को फिर से बनाने की कोशिश की जा रही है, लेकिन चाइनीज आर्मी पीछे हटने के लिए तैयार नहीं है. इसी वजह से दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने आ रही हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें