scorecardresearch
 

गलवान में चीनी विश्वासघात के बाद सीमा पर तनाव, ITBP की 180 पोस्ट पर हाई अलर्ट

गलवान में चीन की चालबाजी और धोखेबाजी में भारत के 20 जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं. इसके बाद उत्तराखंड, हिमाचल, अरुणाचल और लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर बने सभी 180 से ज्यादा बॉर्डर आउटपोस्ट को अलर्ट कर दिया गया है. हाल ही में ITBP ने लद्दाख में बॉर्डर पोस्ट पर 1500 अतिरिक्त जवानों की तैनाती की थी.

लाहौल-स्पीति में तैनात आईटीबीपी के जवान (फाइल फोटो-पीटीआई) लाहौल-स्पीति में तैनात आईटीबीपी के जवान (फाइल फोटो-पीटीआई)

  • ITBP के 180 पोस्ट पर हाई अलर्ट
  • उत्तराखंड, हिमाचल, अरुणाचल, लद्दाख में चौकसी
  • भारत-चीन बॉर्डर पर बढ़ाई गई पैट्रोलिंग
लद्दाख के गलवानी घाटी में चीन की धोखेबाजी के बाद भारत-चीन सीमा के सभी पोस्ट पर हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है. चीन से लगी भारत की सीमाओं वाले राज्य जैसे कि उत्तराखंड, हिमाचल, अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख में आईटीबीपी की सभी चौकियों पर अलर्ट घोषित कर दिया गया है.

ITBP ने बढ़ाई पेट्रोलिंग

सूत्रों के मुताबिक ITBP के जवानों ने चीन की हरकत पर नजर रखने के लिए कई जगहों पर LRP(Long range patrolling) और SRP(Short range patrolling) की संख्या बढ़ा दी है. सीमा पर चीन की हर एक हरकत पर नजर रखी जा रही है.

180 से ज्यादा बॉर्डर आउटपोस्ट अलर्ट

बता दें कि भारत चीन सीमा पर निगहबानी की जिम्मेदारी आईटीबीपी के जिम्मे है. गलवान में चीन की चालबाजी और धोखेबाजी में भारत के 20 जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं. इसके बाद उत्तराखंड, हिमाचल, अरुणाचल और लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर बने सभी 180 से ज्यादा बॉर्डर आउटपोस्ट को अलर्ट कर दिया गया है. हाल ही में ITBP ने लद्दाख में बॉर्डर पोस्ट पर 1500 अतिरिक्त जवानों की तैनाती की थी.

पढ़ें- LAC के पार देखे गए चीनी हेलिकॉप्टर, घायल सैनिकों को एयरलिफ्ट की कोशिश

लाहौल-स्पीति के पास चौकसी

तिब्बत से सटे हिमाचल प्रदेश के किन्नौर और लाहौल-स्पीति के पास सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एहतियाती कदम उठाते हुए अलर्ट जारी किया गया है. राज्य सरकार ने मंगलवार को यह जानकारी दी. राज्य सरकार ने कहा कि यह कदम खुफिया जानकारी के बाद उठाया गया है और सभी राज्य खुफिया इकाइयों को भी अलर्ट कर दिया गया है.

यथास्थिति को बदलना चाहता था चीन

इधर भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) की यथास्थिति को बदलना चाहता था और चीन की तरफ से यथास्थिति बदलने के प्रयास के नतीजे के रूप में सोमवार को हिंसक झड़प हुई.

उरी-पुलवामा की तरह ही गहरी चोट दे गया गलवान, हिंसक झड़प में भारत ने खोए 20 जांबाज

विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि चीनी पक्ष द्वारा एकतरफा रूप से LAC की स्थिति को बदलने का प्रयास किया गया. श्रीवास्तव ने कहा कि इस झड़प में दोनों पक्षों के सैनिक हताहत हुए जिस स्थिति से बचा जा सकता था. उन्होंने चीन की निंदा करते हुए कहा कि उच्च स्तर पर जो समझौता हुआ था, उसे चीनी पक्ष की ओर से तोड़ा गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें