scorecardresearch
 

पलक झपकते ही मिलेगी मानसरोवर के रास्ते में मौसम की हर हलचल की जानकारी

मानसरोवर यात्रा के रास्ते में मौसम की जानकारी http://amssdelhi.gov.in/MANSAROVAR/main.html पर क्लिक कर कोई भी पलक झपकते ही हासिल कर सकता है.

मानसरोवर यात्रा मानसरोवर यात्रा

मानसरोवर यात्रा के लिए मौसम विभाग ने भविष्यवाणी देनी शुरू कर दी है. विभाग ने मानसरोवर यात्रा के लिए अलग से एक वेब लिंक बनाया गया है. मानसरोवर यात्रा के रास्ते में मौसम की जानकारी http://amssdelhi.gov.in/MANSAROVAR/main.html पर क्लिक कर कोई भी पलक झपकते ही हासिल कर सकता है.

विदेश मंत्रालय की पहल पर सेवा शुरू
मौसम विभाग ने विदेश मंत्रालय की पहल पर यह सेवा शुरू की है. खास बात यह है कि मानसरोवर यात्रा के दोनों रास्तों उत्तराखंड और सिक्किम के बारे में ताजातरीन जानकारी देने के लिए मौसम वैज्ञानिकों की एक टीम लगातर स्थिति पर नजर रखती है.

मानसरोवर मार्ग पर मौसम की हर हलचल की जानकारी
मौसम विभाग के महानिदेशक एल एस राठौर ने कहा कि वैसे तो हम हर साल मानसरोवर यात्रा के बारे में वेदर एडवायजरी जारी करते रहे हैं, लेकिन इस साल से इसमें हर घंटे पर होने वाली मौसमी हलचल का भी अपडेट दिया जा रहा है. अगले सात दिनों के बारे में इस भविष्यवाणी में बारिश और बर्फबारी के बारे में जानकारी दी जा रही है.

इस बार मानसून काफी अच्छा रहने जा रहा है. मानसरोवर यात्रा का मार्ग दुर्गम हिमालय से होकर गुजरता है. ऐसे में मानसरोवर यात्रा के मौसम के बारे में जानकारी महत्वपूर्ण हो जाती है.

मानसरोवर यात्रा मार्ग पर हल्की बारिश
उत्तराखंड में पिछले कई दिनों से झमाझम बारिश का दौर जारी है. मानसरोवर यात्रा का मार्ग भी इससे अछूता नहीं है. यात्रा मार्ग पर पड़ने वाले पंतनगर, पिथौरागढ़ और मुंशियारी तक घने बादलों के बीच रह-रह कर बारिश जारी है.

उत्तराखंड वाले रास्ते पर भी कोई चेतावनी नहीं
मौसम विभाग की ताजा एडवायजरी के मुताबिक फिलहाल कोई चेतावनी नहीं है, लेकिन अगले 48 घंटों तक उत्तराखंड के मानसरोवर यात्रा मार्ग पर घने बादलों का डेरा रहेगा. मध्यम दर्जे की बारिश की संभावना बनी रहेगी. उसके बाद के पांच दिनों की बात करें तो मौसम विभाग का कहना है कि बादलों की आवाजाही के बीच हल्की बारिश की संभावना है. यानी यहां पर यात्रियों के लिए राहत की खबर है.

सिक्किम वाले रास्ते पर भी राहत की खबर
मानसरोवर यात्रा के सिक्किम वाले रास्ते की बात करें तो मौसम विभाग का कहना है अगले पांच दिनों तक इस रूट पर आमतौर पर घने बादल छाए रहेंगे. इस वजह से ज्यादातर जगहों पर रुक-रुककर बारिश होती रहेगी. लेकिन इस बारिश से घबराने की जरूरत नहीं है. मौसम विभाग पूरी स्थिति पर नजर रखे हुए है. जरूरत पड़ने पर समय रहते चेतावनी भी जारी की जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें