scorecardresearch
 

कर्नाटक के पूर्व उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर के पीए ने की आत्महत्या

कर्नाटक के पूर्व डिप्टी सीएम जी परमेश्वर के 30 ठिकानों पर आयकर विभाग ने शुक्रवार को छापेमारी की थी. पहले दिन की छापेमारी के दौरान आयकर विभाग ने 4.52 करोड़ रुपये बरामद किए थे. 

जी परमेश्वर के पीए रमेश ने आत्महत्या की (फोटो-ANI) जी परमेश्वर के पीए रमेश ने आत्महत्या की (फोटो-ANI)

  • जी परमेश्वर के 30 ठिकानों पर आयकर विभाग की हुई थी छापेमारी
  • कांग्रेस का आरोप- आयकर विभाग ने रमेश का किया था उत्पीड़न

कर्नाटक के पूर्व उप मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता जी परमेश्वर के पीए रमेश ने आत्महत्या कर ली है. रमेश ने बेंगलुरु के गण भारती इलाके में खुदकुशी की है. पीए की आत्महत्या पर जी परमेश्वर ने कहा कि रेड के दौरान रमेश उनके साथ ही थे. उन्होंने रमेश से रेड के बारे में परेशान नहीं होने के लिए समझाया था.

परमेश्वर ने कहा, वे (रमेश) बहुत मृदुभाषी व्यक्ति था. मुझे नहीं पता है कि आत्महत्या क्यों की. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसी घटना हुई है. बता दें, कर्नाटक के पूर्व डिप्टी सीएम जी परमेश्वर के 30 ठिकानों पर आयकर विभाग ने शुक्रवार को छापेमारी की थी. पहले दिन की छापेमारी के दौरान आयकर विभाग ने 4.52 करोड़ रुपये बरामद किए थे.

परमेश्वर ने कहा, 'आखिर क्या हुआ, इसकी मुझको जानकारी नहीं है. रमेश ने मुझसे कुछ भी शेयर नहीं किया था. हालांकि इनकम टैक्स विभाग के अधिकारी यहां थे. रमेश ने इनकम टैक्स विभाग के बारे में मुझसे कुछ भी नहीं बताया था. वो मेरे साथ हर जगह जाया करता था. मुझको उसकी खुदकुशी की जानकारी मीडिया से मिली. इसके बाद मैंने उसको कॉल किया, लेकिन उसका फोन बंद था. मैंने उससे कहा था कि चिंता मत करो, मैं तुम्हारे साथ हूं. मैंने उसको अपने यहां सोने और सुबह जाने के लिए भी कहा था.'

उधर आयकर विभाग के सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया, परमेश्वर के पीए रमेश पर कोई छापा नहीं मारा गया था और न ही उनका बयान रिकॉर्ड किया गया था. इसलिए आयकर विभाग इस मामले में किसी भी दृष्टिकोण से गुनहगार नहीं दिखता. केवल परमेश्वर का बयान दर्ज किया गया था.

इनकम टैक्स विभाग ने किया था रमेश का उत्पीड़नः एचके पाटिल

वहीं, कांग्रेस के सीनियर नेता एचके पाटिल ने रमेश की खुदकुशी के लिए इनकम टैक्स विभाग के अधिकारियों को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने आरोप लगाया है कि इनकम टैक्स विभाग ने रमेश का उत्पीड़न किया था और सवाल किए थे.

क्या है मामला

कर्नाटक कांग्रेस के नेताओं जी परमेश्वर व आर.एल.जलप्पा के बेंगलुरू व राज्य में दूसरे जगहों के परिसरों पर 100 से ज्यादा आयकर विभाग के अधिकारियों के छापेमारी के दौरान चार से पांच करोड़ की नकदी 'जब्त' की गई.

परमेश्वर और जलप्पा (93) अपने परिवार व रिश्तेदातों के साथ उच्च शैक्षिक संस्थानों की एक चेन के प्रमुख हैं. इन संस्थानों में राज्य के दक्षिण पूर्व में मेडिकल, डेंटल व इंजीनियरिंग कॉलेज शामिल हैं. परमेश्वर और उनके परिवार की ओर से सिद्धार्थ ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन का संचालन किया जाता है.

इसी तरह से जलप्पा ग्रुप ऑफ एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन है. इसमें चिक्काबलपुर व कोलार में देवराज उर्स इंजीनियरिंग एंड मेडिकल कॉलेज शामिल है. यह दोनों बेंगलुरू से 70-100 किमी पूर्व में स्थित हैं.(इनपुट एजेंसी से)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें