scorecardresearch
 

दिल्ली चुनाव के बाद शाहीन बाग पर चल रहे धरने के खिलाफ सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस के. एम. जोसेफ की खंडपीठ ने कहा कि हम समझते हैं कि शाहीन बाग में रोड बंद होने से समस्या है. अब हमारे सामने सवाल यह है कि हम इसको कैसे हल करते हैं.

X
सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट

  • दिल्ली में 8 फरवरी को पड़ेंगे विधानसभा चुनाव के लिए वोट
  • शाहीन बाग में CAA के खिलाफ चल रहा है विरोध प्रदर्शन

दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ चल रहे धरना प्रदर्शन के कारण सड़क बंद है, जिससे आम लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. अब सुप्रीम कोर्ट ने सड़क से प्रदर्शनकारियों को हटाने की मांग वाली याचिका पर दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद सुनवाई करने का फैसला लिया है.

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में हो रहे प्रदर्शन की वजह से सड़क बंद होने की समस्या को समझता है. इसके बाद शीर्ष अदालत ने प्रदर्शनकारियों को सड़क से हटाने की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई को सोमवार तक के लिए टाल दिया है. जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस के. एम. जोसेफ की खंडपीठ ने कहा, 'हम समझते हैं कि समस्या है. अब हमारे सामने सवाल यह है कि हम इसको कैसे हल करते हैं?'

सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई टालते हुए कहा कि चीजों को सामने आने दीजिए. इस दौरान शीर्ष कोर्ट ने माना कि वह शनिवार को होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव के चलते याचिका की सुनवाई को टाल रहा है. याचिकाकर्ताओं ने दिल्ली के शाहीन बाग में 13A रोड बंद होने के खिलाफ शीर्ष अदालत का रुख किया था.

इसे भी पढ़ें--- कांग्रेस सांसद ने बीजेपी MP पर लगाया जान से मारने का आरोप, स्पीकर से की शिकायत

इस मामले के याचिकाकर्ता एडवोकेट अमित साहनी ने कहा कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 8 फरवरी यानी शनिवार को वोट डाले जाने हैं. सुप्रीम कोर्ट ने इसीलिए सोमवार को याचिका पर सुनवाई करने को कहा है. जस्टिस संजय किशन कौल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट सोमवार को इस याचिका को सुनने के लिए तैयार होगी.

इसे भी पढ़ें--- राहुल के 'डंडा मार बयान' पर असम में बोले मोदी- मेरे पास जनता का कवच

एडवोकेट अमित साहनी ने कहा कि सोमवार तक दिल्ली विधानसभा के चुनाव खत्म हो जाएंगे. इस दौरान शीर्ष अदालत ने यह भी माना कि इस मामले पर दिल्ली हाईकोर्ट को सुनवाई करनी चाहिए थी.

वहीं, शुक्रवार को शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने कहा कि हम दिल्ली विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा मतदान करेंगे और पूरे दिल्ली में सबसे ज्यादा मतदान यहीं से होगा. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि लोग अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर प्रदर्शन स्थल से आ जा सकें, इसके लिए ई-रिक्शा-ऑटो लगाए जाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें