scorecardresearch
 

तमिलनाडु में सुनामी के बाद सबसे बड़ा कहर बना गाजा तूफान, अब तक 36 की मौत

गाजा तूफान के कारण नागापट्टनम, तिरुवरुर, कराइकल, त्रिची और वेदारण्यम में कई जगहों पर बड़ी संख्या में पेड़ उखड़ गए. फसल बर्बाद हो गए और बड़ी संख्या में घर गिर गए. मकानों के गिरने से बड़ी संख्या में लोग बेघर भी हो गए.

गाजा तूफान ने मचाई तबाही (फोटो-एएनआई) गाजा तूफान ने मचाई तबाही (फोटो-एएनआई)

तमिलनाडु और पुड्डुचेरी में गाजा तूफान 2004 में आए सुनामी के बाद सबसे प्रलयकारी तूफान साबित हुआ. हालांकि इस बार सुनामी जैसी तबाही नहीं हुई, लेकिन जान-माल का काफी नुकसान जरूर हुआ. अब तक इस तूफान के कारण 36 लोगों की मौत हो चुकी है.

करीब 110 किलो प्रति घंटा की स्पीड वाले गाजा तूफान के कारण राज्य के कई जिलों में करीब 13 हजार ट्रांसफॉर्मर गिर गए जबकि 5 हजार से ज्यादा पेड़ उखड़ गए. फिलहाल तूफान केरल की तरफ मूड़ गया है. मौसम विभाग का कहना है कि चक्रवातीय तूफान के पश्चिम की ओर बढ़ने और अगले छह घंटे में कमजोर पड़ने की संभावना है.

मुख्यमंत्री ईके पलानीस्वामी ने कहा था कि सरकार युद्धस्तर पर काम कर रही है. हालांकि तूफान और तेज बारिश के कारण अब तक 36 लोगों की मौत हो चुकी है. तेज हवाओं के कारण राज्य के कई जिलों में ढेरों घरों को खासा नुकसान पहुंचा और कई पेड़ उखड़ गए.

नागापट्टनम, तिरुवरुर, कराइकल, त्रिची और वेदारण्यम में कई जगहों पर बड़ी संख्या में पेड़ उखड़ गए. फसल बर्बाद हो गए और बड़ी संख्या में घर गिर गए. मकानों के गिरने से बड़ी संख्या में लोग बेघर भी हो गए. तंजौर जिले में तूफान के कारण केले के फसल को नुकसान पहुंचा है. हालांकि तंजौर जिले में इस तूफान से तबाही को लेकर कोई चेतावनी नहीं जारी की गई थी.

मौसम विभाग ने तूफान के बारे में पहले ही आगाह कर दिया था कि जिससे तमिलनाडु सरकार को इस आपदा से बचने की तैयारी करने का मौका मिल गया. वास्तव में, सरकार के प्रयासों की वजह से हताहतों की संख्या में कमी आई है.

विपक्षी नेता के एमके स्टालिन ने भी तमिलनाडु आपदा प्रबंधन के प्रयासों की सराहना किया है, साथ ही अनुरोध किया कि पुनर्वास कार्यक्रम को भी तेजी से चलाया जाए.

तमिलनाडु सरकार ने तूफान के स्तर को देखते हुए 471 रिलीफ केंद्र बनाए जिसमें 81,948 पीड़ित लोगों को रखा गया है. इसके अलावा 216 मेडिकल टीम भी बनाई गई, साथ में 405 एंबुलेंस को स्टैंडबाई के रूप में तैनात किया गया है.

हालांकि कई रिलीफ केंद्रों पर मौजूद लोगों को समय से भोजन नहीं मिल पा रहा है. नागापट्टनम के एक स्कूल विद्धा आश्रम स्कूल में बनाए गए केंद्र में कल रात खाना समय से नहीं पहुंचा जिस कारण बच्चों को रात साढ़े 11 बजे खाने को मिला.

तूफान के कारण मारे गए लोगों के परिजनों को राज्य सरकार की ओर से 10-10 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा. जबकि गंभीर रूप से घायल लोगों को राहत कोष से 1-1 लाख रुपए दिए जाएंगे. वहीं मामूली रूप से घायल लोगों को 25-25 हजार रुपए दिए जाएंगे.

गाजा तूफान अब आगे बढ़ गया है, लेकिन इसने क्षेत्र में 2004 के सूनामी के बाद सबसे ज्यादा तबाही मचाई. हालात सामान्य होने में कुछ समय लगेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें