scorecardresearch
 

हिंदू सेना ने जफरुल इस्लाम के खिलाफ दी पुलिस में शिकायत, कार्रवाई की मांग

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन डॉ. जफरुल इस्लाम खान ने क्वारनटीन सेंटर में तबलीगी जमात के लोगों के साथ गलत व्यवहार किए जाने का आरोप लगाया था. उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट में कहा था कि तबलीगी जमात के लोगों को क्वारनटीन की अवधि को पूरा करने के बाद भी नहीं छोड़ा जा रहा है.

जफरुल इस्लाम खान के खिलाफ पुलिस में शिकायत (Courtesy- PTI) जफरुल इस्लाम खान के खिलाफ पुलिस में शिकायत (Courtesy- PTI)

  • जफरुल इस्लाम खान ने तबलीगी जमातियों को लेकर लिखा था फेसबुक पोस्ट
  • क्वारनटीन पूरा होने के बाद भी जमातियों को नहीं छोड़ने का लगाया था आरोप

हिंदू सेना के अध्यक्ष विष्णु गुप्ता ने दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन जफरुल इस्लाम खान के खिलाफ शिकायत दी है. उन्होंने डॉ. जफरुल इस्लाम खान द्वारा फेसबुक पर किए गए पोस्ट के खिलाफ भारतीय दंड संहिता यानी आईपीसी की धारा 124A (राजद्रोह), 153A (धर्म के आधार पर नफरत फैलाना) और 295A (धार्मिक भावनाओं को आहत करना) के तहत मामला दर्ज करने की मांग की है. हालांकि अभी तक मामले में एफआईआर दर्ज नहीं की गई है.

दरअसल, दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन डॉ. जफरुल इस्लाम खान ने क्वारनटीन सेंटर में तबलीगी जमात के लोगों के साथ गलत व्यवहार किए जाने का आरोप लगाया था. उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट में कहा था कि तबलीगी जमात के लोगों को क्वारनटीन की अवधि को पूरा करने के बाद भी नहीं छोड़ा जा रहा है. जमातियों के साथ छुआछूत का व्यवहार हो रहा है और उन्हें कैदियों की तरह रखा जा रहा है.

जफरुल इस्लाम खान ने कहा था कि सरकार एक ओर जमातियों का प्लाज्मा इस्तेमाल कर रही है, तो दूसरी ओर उनको कैदियों से भी बदतर हालात में रख रही है. उन्होंने कहा था कि जमातियों को न तो समय पर दवाई मिल रही है और न ही खाना मिल रहा. उनको डॉक्टर भी समय से देखने और इलाज करने नहीं आते हैं. अगर कोई बाहरी व्यक्ति भी जमातियों को आवश्यक सामान देना चाहता है, तो उसकी भी इजाजत नहीं दी जा रही है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन जफरुल इस्लाम खान ने आरोप लगाया था कि हजारों तबलीगी जमातियों को बंदी बना लिया गया है और खतरनाक अपराधियों की तरह रखा जा रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक कोरोना मरीज के संपर्क में आने वाले के लिए 14 दिन का क्वारनटीन पीरियड होता है, लेकिन हजारों जमाती 48 दिन से भी ज्यादा समय से क्वारनटीन हैं. इतने दिन बीत जाने के बावजूद जमातियों को छोड़ा नहीं जा रहा है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

आपको बता दें कि मार्च के महीने में दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में जलसे का आयोजन किया गया था, जिसमें देश-विदेश के जमाती शामिल हुए थे. इनमें से कई जमाती कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इसके बाद मरकज से 2300 से ज्यादा जमातियों को निकाला गया था और क्वारनटीन किया गया था. इसके अलावा काफी संख्या में जमाती अपने-अपने राज्यों को निकल चुके थे, जिनकी लगातार तलाश की जा रही है और क्वारनटीन किया जा रहा है. तबलीगी जमात के लोगों पर कोरोना वायरस को फैलाने का भी आरोप लगाया जा रहा है.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें