scorecardresearch
 

नेशनल हेराल्ड केस: वेबसाइट पर सवालों-जवाबों से कांग्रेस ने दी सफाई

कांग्रेस ने नेशनल हेराल्ड मुद्दे पर अपना पक्ष सामने रखने के लिए अपनी वेबसाइट पर सवाल-जवाब का एक सेट जारी किया है. कांग्रेस ने वेबसाइट पर 'नेशनल हेराल्ड' नामक शीर्षक में इस मुद्दे से जुड़े कुल 14 सवालों का जवाब डाला है.

X
कांग्रेस की वेबसाइट
कांग्रेस की वेबसाइट

कांग्रेस ने अपनी वेबसाइट पर नेशनल हेराल्ड मुद्दे से जुड़े कुछ सवालों के जवाब जारी किए हैं. इन सवाल-जवाब के जरिए बताया गया है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने यंग इंडियन कंपनी से कोई लाभ नहीं लिया है.

YI और AJL अलग कंपनियां
यह भी बताया गया है कि यंग इंडियन और एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) दोनों अलग-अलग कंपनियां हैं. एजेएल की सभी परिसंपत्तियां अभी भी एजेएल के पास ही हैं. एक भी पैसा यंग इंडियन को, यंग इंडियन के निदेशकों या यंग इंडियन के शेयर होल्डरों के पास नहीं गया है. यंग इंडियन ने एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड की संपत्तियों पर सुरक्षा उपायों को बढ़ाने का काम किया है.

कर्ज देने पर कोई प्रतिबंध नहीं
कांग्रेस ने इस बात को भी रेखांकित किया है कि कानून में राजनीतिक दलों द्वारा कर्ज दिए जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं है और चुनाव आयोग ने नवंबर 2012 में इस संबंध में एक स्पष्ट आदेश पारित किया था. अखिल भारतीय कांग्रेस समिति ने कहा, ‘भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने इस आधार पर कांग्रेस की मान्यता खत्म करने की मांग की थी, लेकिन उनकी शिकायत को उस समय चुनाव आयोग की पूर्ण पीठ के आदेश द्वारा खारिज कर दिया गया था.'

कांग्रेस द्वारा एजेएल को 90 करोड़ रुपए का कर्ज दिए जाने का औचित्य बताते हुए पार्टी ने कहा कि उसने पिछले कई दशकों से एजेएल को वित्तीय सहयोग दिया है, हालांकि कंपनी की वित्तीय स्थिति कमजोर बनी रही.

रियल एस्टेट कपंनी नहीं YI
वित्त मंत्री अरुण जेटली के आरोप, कि यंग इंडियन एक रियल एस्टेट कंपनी है, को निराधार बताते हुए पार्टी ने कहा है कि यंग इंडियन किसी रियल एस्टेट संपत्ति या अचल संपत्ति का स्वामित्व नहीं करती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें