scorecardresearch
 

अमित शाह के 'साहब' को लेकर कांग्रेस-बीजेपी में घमासान

नरेंद्र मोदी के खासमखास अमित शाह द्वारा कथित रूप से एक युव‍ती की जासूसी के मामले पर कांग्रेस और बीजेपी में घमासान शुरू हो गया है. कांग्रेस ने पूछा है कि बीजेपी ने क्यों जासूसी कराई, इसका जवाब देना चाहिए. कांग्रेस ने इसकी जांच सुप्रीम कोर्ट के जज से कराए जाने की मांग भी की. उधर, बीजेपी पूरी तरह मोदी के बचाव में उतर आई है. बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस मोदी के चरित्र हनन की कोशिश कर रही है.

मीनाक्षी लेखी मीनाक्षी लेखी

नरेंद्र मोदी के खासमखास अमित शाह द्वारा कथित रूप से एक युव‍ती की जासूसी के मामले पर कांग्रेस और बीजेपी में घमासान शुरू हो गया है. कांग्रेस ने पूछा है कि बीजेपी ने क्यों जासूसी कराई, इसका जवाब देना चाहिए. कांग्रेस ने इसकी जांच सुप्रीम कोर्ट के जज से कराए जाने की मांग भी की. उधर, बीजेपी पूरी तरह मोदी के बचाव में उतर आई है. बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस मोदी के चरित्र हनन की कोशिश कर रही है.

नरेंद्र मोदी को निशाना बनाते हुए कांग्रेस की महिला नेताओं ने मांग की कि गुजरात में 2009 में एक महिला आर्किटेक्ट की कथित अवैध जासूसी कराए जाने के मामले में जवाबदेही तय करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के किसी वर्तमान या रिटायर्ड जज से जांच कराई जाए.

कांग्रेस ने सवाल किया कि क्या संविधान द्वारा प्रदत्त व्यक्तिगत निजता के प्रति इस तरह का अनादर प्रकट करने वाले किसी व्यक्ति को किसी सार्वजनिक पद पर बने रहने का अधिकार है. पार्टी की वरिष्ठ नेताओं एवं कैबिनेट मंत्रियों जयंती नटराजन तथा गिरिजा व्यास और उत्तर प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष रीता बहुगुणा एवं अन्य महिला नेताओं ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया.

उधर, बीजेपी की प्रवक्ता मीनाक्षी लेखी ने कहा कि जिस युवती का नाम लेकर मोदी को निशाना बनाया जा रहा है, उस युवती ने कोई शिकायत नहीं की. लेखी ने बताया कि उस युवती के पिता ने गुजरात सरकार के गृह मंत्रालय से सुरक्षा मुहैया कराने की गुहार लगाई थी और सरकार ने उसी के मद्देनजर सब काम किया. लेखी ने कहा कि मोदी को टारगेट किया जा रहा है.

गौरतलब है कि पोर्टल 'कोबरापोस्ट' और 'गुलैल' ने 15 नवंबर को दावा किया था कि गुजरात के पूर्व गृहमंत्री और मोदी के करीबी सहयोगी अमित शाह ने किसी 'साहब' के आदेश पर एक महिला की अवैध जासूसी के आदेश दिए थे. इन पोर्टलों ने अपने दावे के समर्थन में शाह और एक आईपीएस अधिकारी के बीच हुई बातचीत का टेप भी जारी किया था और कहा था कि इसकी प्रमाणिकता की पुष्टि नहीं हो सकी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें