scorecardresearch
 

शाह को ओवैसी की चुनौती- CAA पर मेरे साथ चर्चा करने के लिए तैयार हैं?

सांसद असदुद्दीन ओवैसी एक बार फिर नागरिकता संशोधन कानून को लेकर फिर से भड़के. सीएए पर बहस की चुनौती देने वाले गृह मंत्री अमित शाह को चैलेंज करते हुए उन्होंने कहा कि मोदी का शासनकाल हिटलर की तानाशाही की तरह है.

AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी (File-IANS) AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी (File-IANS)

  • AIADMK भी CAA के खिलाफ आवाज उठाएः ओवैसी
  • 'सीएए-एनपीआर को लागू करना मुसलमानों के खिलाफ'

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को चुनौती दी है. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ बुधवार को मदुरै में आयोजित जनसभा को संबोधित ओवैसी ने कहा कि अमित शाह सबको बहस की चुनौती दे रहे हैं, लेकिन क्या वह मेरे साथ चर्चा के लिए तैयार हैं.

ओवैसी ने तमिलनाडु में सत्तारुढ़ AIADMK से भी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ आवाज उठाने की अपील की.

अखिल भारतीय मजलिस पार्टी की ओर से नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ मदुरै में बैठक बुलाई गई थी. इस बैठक में एआईएमआईएम पार्टी के असदुद्दीन ओवैसी के अलावा थिरुमुरुगन गांधी और वेलमुरुगन भी उपस्थित थे.

क्या मुझसे बहस करेंगे शाहः ओवैसी

इस बैठक में ओवैसी ने केंद्र की मोदी सरकार पर भड़कते हुए कहा कि मोदी का शासनकाल हिटलर के तानाशाही की तरह है. असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह नागरिकता संशोधन कानून पर बहस के लिए हर किसी को न्योता दे रहे हैं, लेकिन क्या वह बहस के लिए मुझे बुलाने को तैयार हैं.

इसे भी पढ़ें--- ओवैसी का निशाना, कहा-RSS के लिए एकता की परिभाषा संविधान से अलग

एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने अपने संबोधन में तमिलनाडु की सत्तारुढ़ पार्टी एआईएडीएमके को भी सीएए के खिलाफ आवाज उठाने का आह्वान किया है. उन्होंने कहा कि सीएए और एनपीआर को लागू करना मुसलमानों के खिलाफ है. मैं सीएए के खिलाफ किसी भी तरह के प्रदर्शन का समर्थन करता हूं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें