scorecardresearch
 

पोंजी स्कीम घोटाला: सीबीआई ने मंसूर खान के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट

मंसूर खान पर इस्लामिक बैंक के नाम पर करीब 40 हजार मुस्लिम लोगों को ठगने का आरोप है. उस पर आरोप है कि वह करीब 2,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी कर दुबई भाग गया था.

धोखाधड़ी के मामले में 19 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था मंसूर खान धोखाधड़ी के मामले में 19 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था मंसूर खान

  • बेंगलुरू की अदालत के समक्ष दायर किया गया आरोपपत्र
  • CBI ने एक सितंबर 2019 को दूसरा मामला दर्ज किया था

आईएमए पोंजी स्कीम मामले में सीबीआई ने आरोपी मंसूर खान के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दिया है. सीबीआई ने कर्नाटक सरकार के अनुरोध पर 30 आरोपियों के खिलाफ 30 अगस्त 2019 को एक प्राथमिकी दर्ज की थी. सूत्रों के मुताबिक, कथित आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी और बेइमानी से संपत्ति की डिलीवरी के लिए बेंगलुरू की अदालत के समक्ष आरोपपत्र दायर किया गया है.

घोटाले के कथित किंगपिन मंसूर खान न्यायिक हिरासत में है और सीबीआई द्वारा आरोप-पत्र दायर करने से उसके लिए जमानत पर बाहर आना मुश्किल हो जाएगा.

इस मामले में सीबीआई ने एक सितंबर 2019 को दूसरा मामला दर्ज किया था. दूसरी प्राथमिकी पीडी कुमार, कार्यकारी अभियंता, बेंगलुरू विकास प्राधिकरण के खिलाफ 5 करोड़ के घालमेल को लेकर दर्ज की गई थी. बता दें कि CBI से पहले IMA पोंजी घोटाले की जांच कर्नाटक पुलिस की SIT द्वारा की जा रही थी. 19 जुलाई 2019 को मंसूर खान को गिरफ्तार किया था. फिलहाल मंसूर खान हिरासत में है.

क्या है पूरा मामला

मंसूर खान पर इस्लामिक बैंक के नाम पर करीब 40 हजार मुस्लिम लोगों को ठगने का आरोप है. मंसूर खान पर आरोप है कि वह करीब 2,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी कर दुबई भाग गया था. आईएमए ने अपनी स्कीम में 14 से 18 फीसदी के भारी रिटर्न का लालच देकर हजारों निवेशकों धोखा दिया था, जिसके बाद करीब 25 हजार लोगों ने धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई थी.

पुलिस ने आईएमए जयनगर के दफ्तर में और मंसूर खान के घर में छापा मारकर करोड़ों रुपये की ज्वैलरी और दस्तावेज जब्त किए थे.

गौरतलब है कि धोखाधड़ी के इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने मंसूर खान के खिलाफ जून में तीसरा समन जारी किया था. इसके तहत मंसूर खान को 3 जुलाई को ईडी के सामने पेश होने के लिए कहा गया था.

बता दें कि पोंजी स्कीम एक तरह की धोखाधड़ी है, जिसमें निवेशकों को लुभाने के लिए नए निवेशकों से लिए गए पैसे पुराने निवेशकों को लाभ के तौर पर दे दिया जाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें