scorecardresearch
 

बंगाल के तट से टकराया चक्रवात बुलबुल, तूफान ने ली 7 लोगों की जान

तूफान के कारण दक्षिण असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम के कुछ इलाकों में अगले 36 घंटे में मध्यम या भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है.

दक्षिण परगना जिले में बुलबुल तूफान का कहर (PTI) दक्षिण परगना जिले में बुलबुल तूफान का कहर (PTI)

  • लोगों को समुद्र के नजदीक या तटीय क्षेत्रों में जाने से मना किया गया
  • आपदा प्रतिक्रिया बल राहत और बचाव सामग्रियों के साथ सतर्क

चक्रवाती तूफान 'बुलबुल' ने शनिवार आधी रात को पश्चिम बंगाल के सागर आइलैंड और बांग्लादेश के खेपुपारा इलाके में दस्तक दी. इससे कई जगह भूस्खलन की खबर है जिससे सुंदरबन डेल्टा पर उत्तर-पूर्व में बांग्लादेश को नुकसान पहुंचा. हालांकि दक्षिण परगना और कोलकाता में बारिश रुक गई है लेकिन तेज हवाओं से खतरा बना हुआ है. इन इलाकों में 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं. तेज हवाओं की चपेट में आने से अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है.

इस चक्रवाती तूफान का असर ओडिशा में भी देखने को मिला, जहां सैकड़ों पेड़ उखड़ गए. सड़कों पर गिरे पेड़ों को हटाने के लिए एनडीआरएफ, ओडीआरएएफ और दमकल के कर्मचारी लगाए गए. ओडिशा के केंद्रपाड़ा जिले में 1070 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया. बालासोर और जगतसिंहपुर जिले में भी 1500 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेजा गया. वहीं केंद्रपाड़ा जिले के राजकनिका पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत गजराजपुर गांव में एस्बेस्टस गिरने से 70 वर्षीय एक शख्स की मौत हो गई है. मृतक की पहचान गणेश्वर मलिक के रूप में हुई है. हादसा उस समय हुआ जब बुजुर्ग अपने घर में सो रहा था.

बंगाल में तूफान की वजह से 24 परगना उत्तरी, 24 परगना दक्षिणी, पूर्वी मिदनापुर, पश्चिमी मिदनापुर, हावड़ा, कोलकाता और झाड़ग्राम प्रभावित हो सकते हैं. सरकार ने इन सात जिलों के स्कूलों में अवकाश की घोषणा की है. साथ ही निजी स्कूलों से भी ऐसा करने के लिए कहा गया है. वहीं आपदा प्रतिक्रिया बल भी राहत और बचाव सामग्रियों के साथ परिस्थिति से निपटने के लिए सतर्क है.

इसके साथ ही लोगों को समुद्र के नजदीक या तटीय क्षेत्रों में जाने से मना किया गया है. भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, शनिवार रात ढाई बजे सुंदरबन नेशनल पार्क (बंगाल का दक्षिण 24 परगना जिला) से 12 किमी दक्षिण-पश्चिम की ओर बंगाल और बांग्लादेश के तटीय इलाकों में बुलबुल तूफान का दबाव दर्ज किया गया. इन इलाकों के तटीय क्षेत्रों में अगले 12 घंटे तक गंभीर स्थिति बनी रह सकती है.

मछुआरों के समुद्र किनारे ना जाने की सलाह

उत्तरी ओडिशा और बंगाल के तटीय इलाकों में मछुआरों को समुद्र में न जाने का निर्देश दिया गया है. अगले 18 घंटे तक बंगाल की खाड़ी में न जाने की हिदायत दी गई है. तूफान के कारण दक्षिण असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम के कुछ इलाकों में अगले 36 घंटे में मध्यम या भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. (एजेंसी से इनपुट)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें