scorecardresearch
 

कार्यकारिणी बैठक में बोले अमित शाह- सारे राज्य में हो BJP सरकार, तब आएगा स्वर्णकाल

केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने कार्यकारिणी बैठक में अमित शाह के भाषण का संवाददाताओं को ब्यौरा दिया. शाह के हवाले से कहा, 'राजनीतिक विश्लेषक दो तिहाई बहुमत को बड़ी जीत बताते आ रहे हैं, लेकिन बीजेपी की जीत से विश्लेषण के पैमाने बदल गए हैं.'

X
राष्ट्रीय कार्यकारिणी को संबोधित करते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह राष्ट्रीय कार्यकारिणी को संबोधित करते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह

मिशन ओडिशा में जुटी बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने जहां पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में मिली जीत पर बधाई दी. वहीं 2019 में होने वाले ओडिशा विधानसभा चुनाव की रणनीति पर पार्टी नेताओं के साथ चर्चा की.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर ने कार्यकारिणी बैठक में अमित शाह के भाषण का संवाददाताओं को ब्यौरा दिया. शाह के हवाले से कहा, 'राजनीतिक विश्लेषक दो तिहाई बहुमत को बड़ी जीत बताते आ रहे हैं, लेकिन बीजेपी की जीत से विश्लेषण के पैमाने बदल गए हैं.'

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अमित शाह ने कहा कि लोग कहते हैं कि यह भाजपा का स्वर्णिम समय है पर मैं कहता हूं कि स्वर्णिम समय तब आएगा जब केरल, बंगाल, ओडिशा आदि सभी राज्यों में भाजपा की सरकार होगी. अब जब हमें लगातार विजय मिल रही है तब हमारे अंदर आलस्य का निर्माण न होने पाए, बल्कि विस्तार की प्यास हमें परिश्रम की पराकाष्ठा की प्रेरणा दे.

इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'अभी तक ये आधार रहता था कि बीजेपी कांग्रेस को तो हरा सकती है, लेकिन क्षेत्रीय दल को नहीं हरा सकती. यूपी ने इसे गलत साबित कर दिया.'

वहीं पांच राज्यों के चुनाव नतीजों के बाद ईवीएम में गड़बड़ी के आरोप लगा रहे विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा, हम ये अपेक्षा करते थे कि हारे हुए दल ईमानदारी से हार को स्वीकार करेंगे, लेकिन अब वे ईवीएम में हार का बहाना खोज रहे हैं.

बता दें कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आज भुवनेश्वर में शुरू हो गई, जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ओडिशा समेत कोरोमंडल क्षेत्र में पार्टी के प्रभाव बढ़ाने की रूपरेखा पेश कर सकते हैं.

इस बैठक में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राजनीतिक प्रस्ताव रखा, जिसमें मोदी सरकार के तीन साल का लेखाजोखा पेश किया गया और कामयाबियों के लिए पीठ थपथपाई गई. इसके साथ ही केंद्र सरकार की जो योजनाएं चल रही हैं, उनको और अच्छी तरीक़े से अमलीजामा पहनाने पर चर्चा हुई. केंद्र सरकार की योजनाओं को और अच्छी तरीक़े से ग़रीब तक पहुंचाने के मुद्दे पर भी जोर दिया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें