scorecardresearch
 

चीन के साथ बढ़ रहा गतिरोध, सेना प्रमुख ने कमांडर्स को तैयार रहने के लिए कहा

अरुणाचल प्रदेश के साथ चीन की सीमा की देखते हुए अपनी यात्रा के दौरान सेना प्रमुख ने फील्ड कमांडर्स को ये संदेश दिया. चीन के साथ सीमा पर सुरक्षा स्थिति की समीक्षा करने के लिए सेना प्रमुख ने तेजपुर का दौरा किया था.

X
सीमा पर चीन से विवाद गहराता जा रहा है (फोटो- पीटीआई)
सीमा पर चीन से विवाद गहराता जा रहा है (फोटो- पीटीआई)

  • भारत और चीन के बीच जारी है तनाव
  • सेना प्रमुख का फील्ड कमांडर्स को संदेश

भारत और चीन के बीच तनाव बना हुआ है. चीन लगातार भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश भी कर रहा है. वहीं सीमा पर जारी इस तनाव के बीच सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने फील्ड कमांडर्स को हर स्थिति में तैयार रहने के लिए कहा है.

सेना प्रमुख नरवणे ने अपने फील्ड कमांडर्स को किसी भी स्थिति के लिए तैयार रहने के लिए कहा है. साथ ही उन्होंने हर समय परिचालन की तैयारी बनाए रखने के लिए कहा है. सेना प्रमुख ने बॉर्डर पर उच्चतम परिचालन तैयारियों को बनाए रखने के लिए कहा है.

यह भी पढ़ें: चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत तैयार, डेपसांग में टैंक किए तैनात

अरुणाचल प्रदेश के साथ चीन की सीमा की देखते हुए अपनी यात्रा के दौरान सेना प्रमुख ने फील्ड कमांडर्स को ये संदेश दिया. चीन के साथ सीमा पर सुरक्षा स्थिति की समीक्षा करने के लिए सेना प्रमुख ने तेजपुर का दौरा किया था. सेना प्रमुख ने लखनऊ स्थित सेंट्रल कमांड का भी दौरा किया और उन्होंने उत्तराखंड के साथ चीन की सीमा पर परिचालन की तैयारियों की समीक्षा की, जहां चीन ने सीमा क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे का विकास किया है.

यह भी पढ़ें: रक्षा मंत्रालय ने माना चीन के साथ जारी रहेगा गतिरोध, विवाद के बाद हटाई रिपोर्ट

वहीं भारतीय रक्षा मंत्रालय की ओर से कहा गया कि डिसएंगेजमेंट की प्रक्रिया अटक गई है. भारतीय रक्षा मंत्रालय ने पहली बार चीनी घुसपैठ को अतिक्रमण के रूप में स्वीकारते हुए आधिकारिक रूप से जानकारी अपनी वेबसाइट पर डाली थी. हालांकि राजनीतिक स्तर पर विवाद बढ़ने के बाद गुरुवार को वेबसाइट से इस रिपोर्ट को अब हटा लिया गया है.

चीन की घुसपैठ

बता दें कि चीन लगातार भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश को अंजाम दे रहा है. जून के महीने में भारत और चीन के सैनिकों में गतिरोध भी देखने को मिला था. जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे. वहीं अब चीन उत्तरी लद्दाख के डेपसांग-डीबीओ सेक्टरों में एक नया मोर्चा खोलने की फिराक में है.

डेपसांग में भारत से लगी सीमा पर चीन ने पहले के मुकाबले अपने जवानों की तैनाती ज्यादा बढ़ा दी है. चीनी वाहनों की आवाजाही बढ़ गई है. भारतीय सैनिक आमतौर पर उन्हें भगाते रहे हैं. लेकिन इस साल उनकी संख्या में बढ़ोतरी देखने को मिली है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें