scorecardresearch
 

LIVE: अंबेडकर जयंती पर पंजाब में मामूली झड़प, देशभर में अलर्ट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल की सुबह-सुबह देशवासियों को अंबेडकर जयंती की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बाबा साहेब ने समाज के गरीब और कमजोर तबके को आगे बढ़ने की उम्मीद दी.

बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर (फाइल फोटो) बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर (फाइल फोटो)

बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की आज 127वीं जयंती है. इस मौके पर देश भर में तमाम कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं. बीजेपी, कांग्रेस, सपा, बसपा सभी राजनीतिक दल इस मौके पर विशेष आयोजन करा रहे हैं. अंबेडकर जयंती पर सियासी दल दलितों को रिझाने की कोशिश में लगे हैं. वहीं गृह मंत्रालय इस मौके पर किसी भी तरह की जातीय व सियासी बवाल ना हो, इसके लिए अलर्ट जारी कर चुका है. इस मौके पर तमाम दलों के नेताओं ने ट्वीट कर बाबा साहेब को याद किया है. 

बाबासाहेब की प्रतिमा का दूध से शुद्धिकरण

गुजरात के वडोदरा में दलित नेताओं के एक वर्ग ने बीजेपी नेताओं की ओर से बाबासाहेब को दी गई श्रद्धांजलि का विरोध किया. बता दें कि यहां केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने बीजेपी सांसद सांसद रंजन बेन भट्ट और विधायक योगेश पटेल के साथ बाबासाहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया था. बीजेपी नेताओं के जाने के बाद बाबसाहेब की प्रतिमा को दूध और पानी से शुद्ध किया गया. ऐसा करने के पीछे तर्क दिया कि बीजेपी नेताओं के छूने की वजह से बाबासाहेब की प्रतिमा अशुद्ध हो गई.

पंजाब में झड़प

गुजरात में एक बीजेपी सांसद को बाबासाहब अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने से रोक दिया गया. जिसके बाद जिग्नेश के कुछ समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. जिग्नेश ने एक ट्वीट में कहा कि बीजेपी के नेताओ का विरोध करते वक्त सुबोध परमार, भरत शाह, जगदीश चावड़ा, राजु वलवईकर (आदिवासी नेता) और विपिन रॉय (दलित पेंथर) को सारंगपुर से हिरासत में लिया गया है. इस बीच हिंदुस्तान टाइम्स की एक खबर के मुताबिक पंजाब में मामूली झड़प की शिकायतें सामने आ रही हैं. हालांकि झड़प किन लोगों के बीच हुई इसकी डिटेल नहीं है.

मायावती का मोदी सरकार पर वार

अंबेडकर जयंती के अवसर पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी और पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी ने एससी/एसटी एक्ट को कमजोर किया है. मायावती ने कहा कि वो मोदी सरकार को बताना चाहती हैं, बाबा साहेब से जुड़ी जगहों को स्मारक बनाने और उनके नाम पर योजनाएं शुरू करने से दलितों का उत्थान नहीं होगा.

भीमराव अंबेडकर के पास थीं 32 डिग्रियां, 9 भाषाओं के थे जानकार

मायावती ने कहा, एससी-एसटी एक्ट को कमजोर करने वाली मोदी सरकार को इस एक्ट पर अध्यादेश लाना चाहिए. तमाम मामलों पर बीजेपी नेताओं को आड़े हाथ लेते हुए मायावती ने कहा, नेताओं के बयान शर्मनाक हैं. उन्नाव और कठुआ गैंगरेप मामले में बीजेपी पर दोषियों को बचाने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, कठुआ-उन्नाव मामले के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.

बीजेपी मुख्यालय में कार्यक्रम

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने नई दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में बाबासाहब भीमराव अंबेडकर को श्रद्धांजलि दी.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी बाबासाहब को श्रद्धांजलि दी. ट्वीट कर उन्होंने लिखा, "डॉ बाबासाहेब अंबेडकर को उनकी जयंती पर मेरा नमन. उनके विचार और जीवनसंघर्ष हमें समानता, मानवीय सम्मान, बंधुत्व और सामाजिक न्याय के लिए हमारे संघर्ष में प्रेरणा देते रहेंगे.

अंबेडकर जयंती पर कई शहरों में हाई अलर्ट

अंबेडकर जयंती पर पंजाब के भी कई शहरों में अलर्ट जारी करने के साथ अमृतसर, जालंधर और फरीदकोट में सुरक्षा बढ़ाई गई है. वहीं यूपी के हापुड़ में अंबेडकर जयंती से पहले चाक-चौबंद सुरक्षा की गई और सुरक्षाबलों ने फ्लैग मार्च भी किया.

'राम-कृष्ण को ईश्वर नहीं मानूंगा', ये थीं अंबेडकर की 22 प्रतिज्ञाएं

वहीं अंबेडकर जयंती के अवसर पर गुजरात में दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने बीजेपी को चुनौती दी है कि वे बीजेपी नेताओं को अंबेडकर की प्रतिमा को हाथ भी नहीं लगाने देंगे. अहमदाबाद में शनिवार को जब बीजेपी सांसद किरीट सोलंकी अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण के लिए पहुंचे, तो उन्हें लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा.

गृह मंत्रालय ने राज्यों को जारी की एडवाइजरी

गृह मंत्रालय राज्य सरकारों को पहले ही अंबेडकर जयंती पर किसी भी तरह की अप्रिय घटना से निपटने के लिए एहतियाती उपाय करने का निर्देश दे चुका है. मंत्रालय ने सभी संवेदनशील इलाकों की सुरक्षा निश्चित करने के साथ पुलिस-प्रशासन को कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा है.

संविधान निर्माता भीमराव अंबेडकर की जयंती पर जातीय हिंसा की आशंका से गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को सतर्क किया है. राज्य सरकारों को एडवाइजरी जारी करते हुए गृह मंत्रालय ने अंबेडकर की मूर्तियों की भी सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है.

जानिए, क्यों अंबेडकर ने लाखों लोगों के साथ त्याग दिया हिंदू धर्म!

पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल की सुबह-सुबह देशवासियों को अंबेडकर जयंती की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बाबा साहेब ने समाज के गरीब और कमजोर तबके को आगे बढ़ने की उम्मीद दी. हमारा संविधान बनाने वाले बाबा साहेब के प्रति हम हमेशा आभारी रहेंगे.

कांग्रेस ने डॉक्टर बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती पर श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया कि भारतीय संविधान के निर्माता बाबा साहेब का जीवन हमारे लिए प्रेरणा का स्रोत है.

बता दें कि हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के उत्पीड़न से जुड़े कानून में संशोधन का फैसला दिया था, जिसे लेकर देश भर में प्रदर्शन किए गए. 2 अप्रैल को दलितों के भारत बंद प्रदर्शन के दौरान हिंसा भी छिड़ गई, जिसमें 11 लोगों की मौत हुई और सार्वजनिक संपत्ति को काफी नुकसान पहुंचाया गया.

इस मामले में विपक्ष ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वो दलितों के हित में काम नहीं कर रही. सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर दलित विरोध के बीच केंद्र ने कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की, जिसे विपक्ष ने दबाव में उठाया कदम बताया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें