scorecardresearch
 

भारी बवाल के बाद सरकार ने किया सूर्य नमस्कार को 'नमस्कार'

केंद्र सरकार 21 जून को होने वाले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर होने वाले कार्यक्रम से सूर्य नमस्कार को हटाने का निर्णय कर लिया है. सूर्य नमस्कार को अनिवार्य आसन रखने का कई मुस्लिम संगठनों ने विरोध किया था.

X

केंद्र सरकार 21 जून को होने वाले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर होने वाले कार्यक्रम से सूर्य नमस्कार को हटाने का निर्णय कर लिया है. सूर्य नमस्कार को अनिवार्य आसन रखने का कई मुस्लिम संगठनों ने विरोध किया था.

गौरतलब है कि पिछले दिनों देश के कई हिस्सों से इस तरह की खबरें आ रही थी कि मुस्लिम समुदाय को सूर्य नमस्कार से परेशानी है. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने स्कूलों में कराए जा रहे योग से भी सूर्य नमस्कार को हटाने की मांग की है. मुस्लिम समुदाय के विरोध को देखते हुए सरकार ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के कार्यक्रम से सूर्य नमस्कार को हटाने का फैसला कर लिया है. दरअसल मोदी सरकार इस दिन को धार्मिक रंग नहीं देना चाहती.

सरकार अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को अपनी बड़ी कामयाबी के तौर पर स्थापित करना चाहती है. इसलिए यह निर्णय लिया गया है.अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर होने वाले कार्यक्रम में अमिताभ बच्चन, शिल्पा शेट्टी और विराट कोहली सहित कई बड़े सितारों के शामिल होने की उम्मीद है. दरअसल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए भी बहुत खास है. उन्हीं की पहल पर 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के तौर पर मंजूरी मिली.

सरकार इस मौके पर भव्य आयोजन करने जा रही है. प्रधानमंत्री चालीस हजार लोगों के साथ योग कर विश्व रिकॉर्ड भी बनाएंगे. मंत्री ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को 177 देशों की तरफ से समर्थन मिला है. दिल्ली के 651 जिलों में फ्री योगा कैंप लगवाए जा रहे हैं. लगभग 11 लाख NCC कैडेट्स देश भर में योग करेंगे. राजपथ पर आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रम में सेना के भी 5 हजार जवान योग करेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें