scorecardresearch
 

BJP के बाद गांगुली को कांग्रेस से ऑफर

बीजेपी के बाद टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को कांग्रेस से भी चुनाव में उतरने की पेशकश हुई है. पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष प्रदीप भट्टाचार्य ने कांग्रेस आलाकमान का संदेश गांगुली तक पहुंचाया. इससे पहले बताया जाता है कि नरेंद्र मोदी ने गांगुली को डबल ऑफर दिया था. वो सांसद बनें और एनडीए सरकार बनने पर उन्हें खेल मंत्री बनाया जाएगा. बताया जाता है कि गांगुली ने फिर किसी प्रस्ताव में रुचि नहीं दिखाई है.

सौरव गांगुली सौरव गांगुली

बीजेपी के बाद टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को कांग्रेस से भी चुनाव में उतरने की पेशकश हुई है. पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष प्रदीप भट्टाचार्य ने कांग्रेस आलाकमान का संदेश गांगुली तक पहुंचाया. इससे पहले बताया जाता है कि नरेंद्र मोदी ने गांगुली को डबल ऑफर दिया था. वो सांसद बनें और एनडीए सरकार बनने पर उन्हें खेल मंत्री बनाया जाएगा. बताया जाता है कि गांगुली ने फिर किसी प्रस्ताव में रुचि नहीं दिखाई है.

प्रदीप भट्टाचार्य ने हालांकि गांगुली से मुलाकात को महज औपचारिक बताया है और उसे राजनीतिक रंग दिए जाने की बात खारिज की है.

भट्टाचार्य ने कहा, 'मीडिया में जिस तरह की चीजें उछाली गई हैं, उसके विपरीत मुलाकात का कोई खास अर्थ नहीं है. वे क्या करेंगे यह उनका अपना फैसला होगा. मैंने राजनीति को लेकर कोई प्रस्ताव नहीं रखा. यह निजी मुलाकात थी.'

राजनीतिक गलियारे में हालांकि इस बात की चर्चा चल रही है कि कांग्रेस ने गांगुली को राज्यसभा का टिकट देने अथवा वर्ष 2014 में लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी बनने का प्रस्ताव दिया है.

इस बीच गांगुली (41) ने कहा कि उन्हें बीजेपी की ओर से प्रस्ताव मिला है, लेकिन उन्होंने इस बारे में अभी तक कोई फैसला नहीं किया है.

गांगुली ने कहा, 'हां मुझे प्रस्ताव मिला है, लेकिन अभी तक मैंने कोई फैसला नहीं किया है. यह एक बड़ा फैसला है, कोई आसान-सा मामला नहीं है. मुझे कई पहलुओं पर विचार करना होगा.'

संयोग से एक दिन पहले भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज ने जोर देकर कहा था कि उन्होंने बीजेपी की पेशकश ठुकरा दी है.

मुंबई में उन्होंने कहा था, 'मैंने इनकार कर दिया है. मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा.'

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राहुल सिन्हा ने शनिवार को कहा था कि पश्चिम बंगाल मामलों के प्रभारी महासचिव वरुण गांधी ने नई दिल्ली में एक मुलाकात के दौरान गांगुली को अपनी पसंद के क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ने की पेशकश की थी.

इस बीच बीजेपी-कांग्रेस की होड़ पर ताना कसते हुए राज्य में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने कहा है कि इससे क्रिकेटर की लोकप्रियता काफूर हो गई है.

राज्य के पंचायती राज मंत्री सुब्रत मुखर्जी ने कहा, 'कांग्रेस देश में अब चूकी हुई ताकत हो गई है. बंगाल में अकेली पड़ गई है. मेरा मानना है कि रविवार को हुई मुलाकात से गांगुली की लोकप्रियता कम हुई है.'

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता अशोक भट्टाचार्य ने गांगुली को लुभाने की बीजेपी और कांग्रेस की कोशिश को प्रचार का हथकंडा कहा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें