scorecardresearch
 

कोर्ट जाकर पूछा 'अच्छे दिन कहां है PM साहब!', मोदी और बीजेपी के खिलाफ PIL

अच्छे दिन लाने के वादे के साथ सत्ता में आई मोदी सरकार अब अपने नारे को लेकर बुरी तरह घिरती नजर आ रही है. रेल किराये में इजाफा व चीनी की कीमतें बढ़ने के बाद मोदी सरकार को चौतरफ आलोचना झेलनी पड़ रही है. इसी क्रम में मुंबई के एक एनजीओ ने नरेंद्र मोदी और बीजेपी के बॉम्बे हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की है. एनजीओ ने मोदी और बीजेपी पर वादा तोड़ने का आरोप लगाया गया है.

नरेंद्र मोदी नरेंद्र मोदी

अच्छे दिन लाने के वादे के साथ सत्ता में आई मोदी सरकार अब अपने नारे को लेकर बुरी तरह घिरती नजर आ रही है. रेल किराये में इजाफा व चीनी की कीमतें बढ़ने के बाद मोदी सरकार को चौतरफ आलोचना झेलनी पड़ रही है. इसी क्रम में मुंबई के एक एनजीओ ने नरेंद्र मोदी और बीजेपी के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की है. एनजीओ ने मोदी और बीजेपी पर वादा तोड़ने का आरोप लगाया गया है.

यह याचिका ऑल इंडिया करप्शन और सिटीजंस वेलफेयर कोर कमेटी और इसके संस्थापक एडवोकेट एमवी होलमगी ने दाखिल की है. हालांकि कोर्ट ने एडवोकेट से कहा है कि रेल किराये में बढ़ोतरी को लेकर दाखिल जनहित याचिका को पहले ही खारिज किया जा चुका है.

याचिका में हाईकोर्ट से आग्रह किया गया है कि वह सरकारी रिकॉर्ड मंगवाएं और वादे नहीं निभाने के कारण मोदी सरकार से इस्तीफा मांगे.

एडवोकेट होलमगी ने कहा, 'बीजेपी अच्छे दिन लाने का वादे करके सत्ता में आई है. लेकिन एक महीने के भीतर रेल किराया व अन्य चीजों के दाम बढ़ गए हैं. लोग यूपीए सरकार से परेशान थे इसलिए उन्होंने बीजेपी पर भरोसा किया. लेकिन अब वह वादा तोड़ रही है. अब आम आदमी को अपने वोट पर पुनर्विचार करने का मौका मिलना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें