scorecardresearch
 

आजतक का रियलिटी चेक: कितना कैशलेस हुई अर्धसैनिक बलों की कैंटीन?

नोटबंदी के बाद सरकार जहां लोगों को कैशलेस ट्रांजैक्शन के लिए प्रोतसाहित कर रही है, वहीं देश के अर्धसैनिकों बल अभी इससे दूर हैं. देश के अर्धसैनिक बलों पर नोटबंदी का असर जानने के लिए आजतक ने दिल्ली के उनकी कैंटीन में कैशलेस यानी डिजिटल पेमेंट की सुविधा का रियलिटी चेक किया.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

नोटबंदी के बाद सरकार जहां लोगों को कैशलेस ट्रांजैक्शन के लिए प्रोतसाहित कर रही है, वहीं देश के अर्धसैनिकों बल अभी इससे दूर हैं. देश के अर्धसैनिक बलों पर नोटबंदी का असर जानने के लिए आजतक ने दिल्ली के उनकी कैंटीन में कैशलेस यानी डिजिटल पेमेंट की सुविधा का रियलिटी चेक किया.

दिल्ली के सीजीओ कॉम्प्लेक्स में सभी अर्धसैनिक बलों के ऑफिस मौजूद हैं. इसके साथ ही जवानों के लिए जरूरी सामानों के कैंटीन भी यहां हैं. ऐसी ही एक कैंटीन में जाने पर पता चला की वहां कैशलेश सुविधा नहीं है. सीजीओ काम्प्लेक्स में मौजूद पैरामिलिट्री फॉर्स की सबसे बड़ी कैंटीन में अभी कैश में ही पेमेंट हो रहा है. इस बाबत पूछे जाने पर यहां मौजूद अधिकारियों का कहना था कि कैंटीन को कैशलेस बनाने के लिए बातचीत पूरी हो चुकी है, लेकिन अभी तक मशीन नहीं आई है. इनका कहना था कि अगले तीन- चार दिनों में इनकी ये कैंटीन भी कैशलेस ट्रांजैक्शन करने लगेगी.

अर्धसैनिक बलों को डिजिटल पेमेंट की तरफ बढ़ने का निर्देश
आपको बता दें कि हाल ही में गृह मंत्रालय में हुई बैठक में कैशलेस ट्रांजैक्शन पर चर्चा हुई थी. केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू की अध्यक्षता में हुई बैठक में गृह मंत्रालय के विभिन्न अधिकारियों के साथ सभी अर्धसैनिक बलों के डीजी भी मौजूद थे. इस दौरान नीति आयोग के प्रमुख अमिताभ कांत ने डिजिटल ट्रांजैक्शन के तरीके और उसके लाभ बताए. इसके साथ ही अर्धसैनिक बलों के डीजी को डिजिटल पेमेंट की तरफ बढ़ने का निर्देश दिया गया. हालांकि सीजीओ कॉम्प्लेक्स की पैरा-मिलिट्री कैंटीनों में उस निर्देश का असर नदारद दिखा.

सीजीओ कॉम्प्लेक्स में ही मौजूद केंद्रीय भंडार पहुंचे तो वहां पेमेंट काउंटरों को डिजिटल मोड में दिखे. यहां मौजूद जवानों का कहना है कि सरकार की तरफ से कैशलेस की ओर उठाया कदम ठीक है और आगे आने वाले समय में इससे लोगों को काफी फायदा होगा. डिजिटल पेमेंट को लेकर इन जवानों का कहना है कि अब मोबाइल और कार्ड ही उनका बटुआ होगा.

इसके बाद सीआरपीएफ की कैंटीन का रुख करने पर वहां भी कैशलेश सुविधा नहीं दिखी. हालांकि यहां बात करने पर पता चला कि दूसरी कुछ जगहों पर सीआरपीएफ कैंटीनों में कैशलेश सुविधा बराबर मौजूद है. वहीं सीजीओ स्थित कैंटीन में सामान खरीदने आए जवान और उनके परिवार वाले कैशलेस होना चाहते हैं, लेकिन अभी यहां सुविधा न होने के चलते उन्हें परेशानी हो रही है.

एटीएम के बाहर कतारें बरकरार
इसी कॉम्प्लेक्स में मौजूद SBI एटीएम के आगे पैसे निकालने वालो की लाइन लगी हैं. लोगों का कहना है कि ये कतारें कम तो हुई हैं, लेकिन परेशानी अब भी बरकरार है. उनका कहना था कि इस काम्प्लेक्स में जो दूसरे एटीएम हैं, वे भी सुचारू रूप से चलते रहें तो इतनी परेशानी नहीं होगी. आपको बता दें कि इस कॉम्प्लेक्स में कुल 6 एटीएम हैं, लेकिन इनमें से एक-दो में ही कैश पहुंच पा रहा है.

वहीं कैशलेस ट्रांजैक्शन को लेकर एनडीआरएफ के जवानों से बात की तो उनका कहना था कि देश से काले धन को ख़त्म करने के लिए मोदी सरकार का यह कदम बहुत अच्छा है. नोट की कमी थोड़े दिनों की बात है, हम लोग इससे निपट लेंगे. इस बीच एनडीआरएफ अपने जवानों को कैशलेस सुविधा के लिए ट्रेनिंग भी दे रही है. एनडीआरएफ के डीजी आरके पचनंदा ने आजतक से बातचीत में बताया कि हाल ही में जवानों को डिजिटल पेमेंट के गुर सिखाए गए. इन जवानों को जिम्मेदारी दी हई है कि खुद कैशलेस ट्रांजैक्शन सीखने के साथ वे एक और शख्स को डिजिटल पेमेंट के तरीके और फायदे समझाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×